मंगलवार, सितंबर 14, 2010

दायरे हैं कई

4 टिप्‍पणियां:

  1. घाटियों में नदी का खो जाना,इस तरह के हादसे हैं कई।ख़ूबसूरत शे"र , बेहतरीन ग़ज़ल्। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मनमोहक ब्लॉग पर लाजवाब ग़ज़ल की प्रशंसनीय प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. संजय दानी जी,अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. राकेश कौशिक जी, हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं