शुक्रवार, अप्रैल 15, 2011

उसने मुझसे कहा....


114 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत उम्दा ग़ज़ल ....आखिरी पंक्तिया खूब कहीं...

    उत्तर देंहटाएं
  2. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    मेरी गज़ल पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब .........खूबसूरत ग़ज़ल!

    उत्तर देंहटाएं
  4. "Apne Hone kaa ehsaas dilaa deten hain ,
    jab gazal koi zamaane ko sunaa deten hain "-
    varshaaji !Gazal "ashik "aur "maashook "kaa paraspar samvaad hai .soofi kavi ,bhagvaan ko hi apni ,"bahuriyaa "maante aayen hain .
    aapkee gazal nirantar kuchh dhoondhti si lage hai ."RET SI ZINDAGEE ,TUM ,NADI SEE, BAHO !"
    ek aur, prayog -CHAAH AB HAI KI TUM MERI DAULAT BANO !
    anaayaas hi ye panktiyaan zehan me ubhri -"jaane kya dhoondhti rahti hain ye ! aankhen ,mujhme ,raakh ke dher me sholaa hai na chingaari hai ?"
    khoobsoorat andaaze byaan aapkaa barkaraar rahe -MUBAARAK!
    veerubhai .

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय वर्षा जी
    नमस्कार !
    कोमल भावों की शानदार कविता ने मन मोह लिया.
    बहुत सुन्दर कविता..........दिल को आनन्दित करती हुई पंक्तियाँ!
    आप से अच्छा लिखने की प्रेरणा मिलती है बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय वर्षाजी नमस्कार !
    बहुत खूब , बहुत उम्दा ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही बढ़िया ग़ज़ल है वर्षा जी.
    one of your best.

    एक ग़ज़ल याद आ गयी ,यूं ही.

    आज जाने की जिद न करो
    यूँही पहलु में बेठे रहो

    हाय मर जाएँ गे हम तो लुट जाएँ गे
    ऐसी बातें किया न करो
    तुम्ही सोचो ज़रा क्यों न रोकें तुम्हे
    जान जाती है जब उठ के जाते हो तुम
    तुम को अपनी क़सम जाने जां
    बात इतनी मेरी मान लो

    आज जाने की जिद न करो

    सलाम.

    उत्तर देंहटाएं
  8. 'साहिल'जी,
    आपने मेरी ग़ज़ल को सराहा...आभारी हूं.
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  9. वीरूभाई जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी ग़ज़ल पसन्द आई....
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए आभारी हूं.
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  10. संजय भास्कर जी,
    आपने मेरी इस गज़ल को पसन्द किया...हृदय से आभारी हूं.
    आपको अनेक धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  11. संजय कुमार चौरसिया जी,
    हार्दिक धन्यवाद!
    आभारी हूं मेरी इस गज़ल पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  12. विशाल जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया...हृदय से आभारी हूं.
    अपनी बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  13. ग़ज़ल बहुत बढ़िया . तख़ल्लुस का अर्थपूर्ण इस्तेमाल आपकी ग़ज़लों की विशेषता होती है.वाह वर्षा जी.

    उत्तर देंहटाएं
  14. कुंवर कुसुमेश जी,
    आप स्वयं एक समर्थ ग़ज़लकार हैं अतः आपकी टिप्पणी मेरे लिए विशेष महत्व रखती है...आभारी हूं आपकी टिप्पणी के लिए।
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  15. संवेदनाओं से परिपूर्ण एक उम्दा ग़ज़ल. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  16. कोई हलचल नहीं इस बियाबान में
    रेत सी जिंदगी तुम नदी सी बहो.......वाह!...... बहुत अच्छी ग़ज़ल हुई है...बधाई!
    ----देवेंद्र गौतम

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत ही खुबसूरत गज़ल, दाद का मोहताज नहीं पर दिल ने कहा बहुत खूब .

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपने बेहद उम्दा ग़ज़ल लिखी है. इसीलिए बहुत पसंद आई.
    इसके लिए आपको बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  19. बेहतरीन पंक्तियाँ, आपके ब्लॉग पर साहित्यिक भूख और जागृत हो जाती है, बेहतरीन ग़ज़ल के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  20. अच्छे है आपके विचार, ओरो के ब्लॉग को follow करके या कमेन्ट देकर उनका होसला बढाए ....

    उत्तर देंहटाएं
  21. दिल से निकली ग़ज़ल मन को भा गई।

    उत्तर देंहटाएं
  22. स्वराज्य करुण जी,
    आपने मेरी इस गज़ल को पसन्द किया...हृदय से आभारी हूं.
    आपको अनेक धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  23. अनुराग शर्मा जी,Smart Indian - स्मार्ट इंडियन
    आपने मेरी ग़ज़ल को सराहा...आभारी हूं.
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  24. देवेंद्र गौतम जी,
    आप जैसे समर्थ ग़ज़लकार की टिप्पणी मेरे लिए विशेष महत्व रखती है...आभारी हूं आपकी टिप्पणी के लिए।
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  25. सुनील कुमार जी,
    आपने तो मुझे निरुत्तरित ही कर दिया......
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  26. विरेन्द्र सिंह चौहान जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी ग़ज़ल पसन्द आयी। आपको बहुत बहुत धन्यवाद !
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  27. कुश्वंश जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया...हृदय से आभारी हूं.
    अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  28. सारा सच जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !
    मेरे ब्लॉग पर आपके विचारों का हमेशा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  29. मनोज कुमार जी,
    आपने मेरी ग़ज़ल को सराहा...आभारी हूं.
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  30. ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए. हार्दिक धन्यवाद.
    मेरे ब्लॉग पर सदैव आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  31. वर्षाजी नमस्ते गज़ल का हर शेर लाजवाब है |बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं |

    उत्तर देंहटाएं
  32. डाक्टर साहिबा,
    नमस्कार...!!!

    मेरे एहसासों ने जो मेहसूस किया ,
    उसको दिल मेरे ने महफूज किया || अशोक"अकेला"

    स्वस्थ रहें ! शुभकामनाएँ !
    अशोक सलूजा !

    उत्तर देंहटाएं
  33. जयकृष्ण राय तुषार जी,
    आप जैसे कवि मनीषी के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....अपने विचारों से अवगत कराने के लिये आपका हार्दिक आभार एवं धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  34. अशोक सलूजा जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी ग़ज़ल पसन्द आई.... मेरी ग़ज़ल को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....एवं हार्दिक शुभकामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  35. वर्षाजी....

    एक से एक खूबसूरत ग़ज़लें...

    वैसे ही खूबसूरत एहसास...!

    शुक्रिया न कहूं तो क्या कहूं !!

    उत्तर देंहटाएं
  36. भाव पूर्ण और दिल के करीब लगी ये ग़ज़ल रुपी वर्षा . एकदम तरन्नुम में .

    उत्तर देंहटाएं
  37. पूनम जी,
    आपने मेरी ग़ज़ल को सराहा...आभारी हूं.
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  38. ज्योति सिंह जी,
    मेरी गज़ल पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  39. आशीष जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  40. "kab se padhte rahen hain puraani gazal aaj fir se nai ek gazal fir kaho "-veerubhai .
    vaise Md gazal padhi jaati hai ,kahin nahin jaati ....
    veerubhai .

    उत्तर देंहटाएं
  41. वाह! क्या लिखा है, कभी हमारी दुनिया में भी झांककर देखिये.

    उत्तर देंहटाएं
  42. गिरीश मुकुल जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया...हृदय से आभारी हूं.
    अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  43. वीरूभाई जी,
    ‘‘vaise Md gazal padhi jaati hai ,kahin nahin jaati ....’’

    जी नहीं, ग़ज़ल कही जाती है और कविता पढ़ी जाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  44. कैलाश मोहनकार जी,
    मेरी गज़ल पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  45. कोई हलचल नहीं इस बियाबान में
    रेत सी जिंदगी तुम नदी सी बहो.

    khoobsoorat ghazal ka haasile ghazal sher

    उत्तर देंहटाएं
  46. काफी गेयता है इन पंक्‍ि‍तयों में।

    उत्तर देंहटाएं
  47. बहुत खूब .. . ये सफ़र अब अकेले न कट पाएगा ...
    लाजवाब लगा ये शेर ...

    उत्तर देंहटाएं
  48. प्रेमरस भरी प्यारी ग़ज़ल.....हर शेर बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  49. अच्छे है आपके विचार, ओरो के ब्लॉग को follow करके या कमेन्ट देकर उनका होसला बढाए ....

    उत्तर देंहटाएं
  50. इस्मत ज़ैदी जी,
    आप जैसी शायरा के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  51. Rajeev Panchhi ji,
    Thank you for visiting my blog!
    I feel honored by your comment.

    उत्तर देंहटाएं
  52. राजे शा जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !
    मेरे ब्लॉग पर आपके विचारों का हमेशा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  53. दिगम्बर नासवा जी,
    आपने मेरी ग़ज़ल को सराहा...आभारी हूं.
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  54. सुरेन्द्र सिंह " झंझट "जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया...हृदय से आभारी हूं.
    अपनी बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  55. सारा सच,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  56. wow!..It's a beautiful creation . So appealing and mesmerizing.

    उत्तर देंहटाएं
  57. Dr. divya ji,
    Thank you for visiting my blog!
    Thanks for your comments.Hope you will be give me your valuable response on my future posts.

    उत्तर देंहटाएं
  58. बहुत सुन्दर. बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
  59. अबनीश सिंह चौहान जी,
    मेरी गज़ल पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  60. अनामिका जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  61. आशुतोष जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आभार...
    आपके विचारों का मेरे ब्लॉग्स पर सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  62. आदरणीय वर्षा जी
    नमस्कार !
    सच है क्या जिंदगी का किसी को पता नहीं.......संजय भास्कर
    नई पोस्ट पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  63. जिनके पास दिल होता है, उन्हें ऐसी जरूरत महसूस होती है

    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है
    मिलिए हमारी गली के गधे से

    उत्तर देंहटाएं
  64. संजय भास्कर जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !
    मेरे ब्लॉग पर आपके विचारों का हमेशा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  65. एम सिंह जी,
    मेरी गज़ल पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  66. Dr. Divya ji, ZEAL
    It's pleasure to me .
    I feel honored by your comment.

    उत्तर देंहटाएं
  67. "अब तुम मेरी दौलत बनो " जीवन में इसी की तो कमी रहती है ....अगर सच में कोई हमसे इसी तरह प्यार करता है तो जीवन के मायने ही बदल जायेंगे .....आपका आभार इस सार्थक ग़ज़ल के लिए ...!

    उत्तर देंहटाएं
  68. चाह दौलत की मुझको कभी भी न थी...वाह वाह...वाह...बेमिसाल रचना...बधाई स्वीकारें



    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  69. केवल राम जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि मेरी गज़ल आपको पसन्द आई....
    बहुत-बहुत आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  70. नीरज गोस्वामी जी,
    मेरी गज़ल पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आप जैसे मनीषी साहित्यकारों की बहुमूल्य टिप्पणी ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.

    उत्तर देंहटाएं
  71. बहुत खूब....!
    मुक़र्रर...... मुक़र्रर

    उत्तर देंहटाएं
  72. गज़ब का फ्लो है गज़ल में .सुन्दर शब्द और सकारात्मक भाव .
    कुल मिलकर कम्प्लीट पैकेज गज़ल का....

    उत्तर देंहटाएं
  73. बहुत सुन्दर शब्द रचना | धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  74. प्रदीप जी,
    हार्दिक धन्यवाद !
    आपकी इस मुक़र्रर पर पेश है मेरा एक शेर....

    आपने कह दिया जो मुक़र्रर,
    रोशनी मिल गई है गज़ल को।

    उत्तर देंहटाएं
  75. मदन शर्मा जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी गज़ल पसन्द आयी। आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  76. Patali-The-Village,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं।
    हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  77. जी आपकी गजल का वाकई कोई जवाब नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  78. क्या बात कही है वर्षा जी !ये दौलत मिल जाये तो और क्या चाहिये ..बहुत खूब ......

    उत्तर देंहटाएं
  79. योगेन्द्र मौदगिल जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया...हृदय से आभारी हूं.
    अपनी बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  80. महेन्द्र जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !
    मेरे ब्लॉग पर आपके विचारों का हमेशा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  81. निवेदिता जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  82. aadarniy varshh ji
    sabne to sab kuchh kah diya ab mere liye kuchh bacha hi nahi
    fir bhi kuchh to likhungi hi
    kahan se dhundh kar lati hain ye gazlo ka khajaana
    jo bhi padhta ikbar me hiban jaaye vo aapki gazlo ka diwana
    bahut bahut hardik
    badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  83. पूनम जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद !
    मेरे ब्लॉग पर आपका सदैव स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  84. मेडम !आपकी ग़ज़ल का कबसे इंतज़ार है .इधर आपकी ग़ज़ल "धूप -आया -नदी औरत "का "री -मिक्स प्रस्तुत किया है .कृपया पढ़ें .

    उत्तर देंहटाएं
  85. मेरे ब्लॉग पर नियमित रूप से आने के लिए और हौसला अफजाही के लिए बहुत बहुत शुक्रिया! आपकी टिपण्णी मिलने पर मेरे लिखने का उत्साह दुगना हो गया!
    बहुत ख़ूबसूरत और लाजवाब ग़ज़ल लिखा है आपने ! उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  86. वीरू भाई जी,
    धैर्य का फल हमेशा मीठा होता है...SO PLEASE WAIT !
    Hearty Thanks for your comment...
    You are always welcome in my blog.

    उत्तर देंहटाएं
  87. उर्मि चक्रवर्ती जी,
    आपका लेखन है ही प्रशंसनीय....
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद !
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आपका आभार...मेरे ब्लॉगस पर आपका हमेशा स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  88. VENUS,
    I'm thankful to you.
    Hope you will be give me your valuable comment on my posts.

    उत्तर देंहटाएं
  89. बहुत सुन्दर गज़ल..हरेक शेर बहुत उम्दा और मन को छू जाता है..

    उत्तर देंहटाएं
  90. कैलाश सी. शर्मा जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ....
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  91. bahut sundar prastuti .badhai Varsha ji sundar lekhan hetu .

    उत्तर देंहटाएं
  92. कैलाश सी. शर्मा जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि मेरी गज़ल आपको पसन्द आई....
    बहुत-बहुत आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  93. मृदुला प्रधान जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !
    मेरे ब्लॉग पर आपके विचारों का हमेशा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  94. वर्षा जी
    आपने मेरी रचना को पसंद किया ,इसके लिए हार्दिक धन्यवाद. आपका उत्साहवर्धन मुझे नई स्फूर्ति देता रहेगा .आपकी रचनाएँ उच्च स्तर की हैं .बहुत दिनों से नई रचना का इन्तिज़ार है.हमारे पारिवारिक ब्लाग में आते जाते रहिएगा.अब तो आप परिवार की सदस्य ही लगती हैं.आपका हमेशा स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  95. अनन्या ब्लॉग तक पहुँचने ,और बहुमूल्य प्रतिक्रिया के लिए शुक्रिया ....ये प्रोत्साहन आगे भी मिलता रहेगा ,धन्यवाद
    ' कोई हलचल नहीं इस बियांबान में
    रेत सी जिंदगी तुम नदी सी बहो ......
    बहुत ही बेहतरीन है आपकी शायरी,और हर चेहरे पर एक जैसी बिंदी एक विशेष ओज लिए ,मुझे बहुत अच्छी लगी...

    उत्तर देंहटाएं
  96. Sapna Nigam ji,
    You are always welcome in my blog.
    I am very glad to see your comment on my ghazal.
    Hearty thanks.

    उत्तर देंहटाएं
  97. अंजू जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  98. वीना जी,
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  99. koi halchal nahi is biyanbaan mein,
    ret si zindagi tum nadi si baho"{waah varsha ji bahut acchi lagi.vese to hum itne chote hain ki itne bade blogerrs k liye hum kuch kahe galat hoga,lekin aapki is rachna k liye yehi kahungi ki-dil se likhi hui rachna dil tak pahunchi!!

    उत्तर देंहटाएं
  100. नश्तरे एहसास जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  101. आँखे मेरी सपने उनके
    अपनी हुयी परे रात

    वह बेहतरीन शेर , बहुत ही प्यारी ग़ज़ल रेशमी अह्शासों को बखूबी उकेरा है वर्षा जी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  102. कुश्वंश जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  103. बेनामी27 जून, 2011 18:08

    varsha ji pahali baar aapki gazalen padhi acchi hain koi halchal nahi.....nadi si baho ye line bahut acchi hai
    Dr. madhu pradhan
    kanpur

    उत्तर देंहटाएं
  104. Bahut hi badhiya
    mere blog www.utkarsh-meyar.blogspot.in par aapka swagat hai.

    उत्तर देंहटाएं