शनिवार, अक्तूबर 01, 2011

दिल ने दिल से कह दी बात ....


85 टिप्‍पणियां:

  1. उम्मीदों के ख्वाब लिए बहुत सुन्दर ग़ज़ल ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. फिर आई रिम-झिम "वर्षा "की सौगात
    क्यों न सुधरे पढ़ के सब के हालात.....
    सुंदर सौगात ....
    शुभकामनाएं !
    एक नज़र इधर भी

    उत्तर देंहटाएं
  3. रिम-झिम "वर्षा "की सौगात

    बहुत सुन्दर ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  4. उम्मीदों की रिमझिम वर्षा
    बदल गए सारे हालात।

    खूबसूरत ग़ज़ल का खूबसूरत मक्ता।

    उत्तर देंहटाएं
  5. डॉ टी एस दराल जी,
    मेरी गजल पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रवीण पाण्डेय जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अशोक जी, यादें
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  8. कुश्वंश जी,
    आपका स्नेह मेरी गजल को मिला..यह मेरा सौभाग्य है.
    बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  9. निशा महाराणा जी,
    आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  10. महेन्द्र वर्मा जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं...
    बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  11. ऐसी बरसात में तो भींग-भींग कर मन मयूर नाच उठता है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. मनोज कुमार जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  13. संगीता स्वरुप जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  14. संगीता स्वरुप जी,
    पुनः आभार...
    नयी -पुरानी हलचल में मेरी किसी पोस्ट को स्थान देने हेतु चयन करने के लिए. इस प्रोत्साहन के लिये आपको बहुत- बहुत धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुरेश कुमार जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह क्या बात है...सुंदर गज़ल....

    उत्तर देंहटाएं
  17. उम्मीदों की रिमझिम वर्षा
    बदल गए सारे हालात।
    संकेतों का सावन है यह ग़ज़ल ."आँखों ने आँखों में झांका,खुशियाँ बनकर आई रात .".मन की तरंग आलोडन को मुखरित करती ग़ज़ल .

    उत्तर देंहटाएं
  18. उम्मीदों की झिलमिल वर्षा
    बदल गए सारे हालात...

    वाह! बहुत सुन्दर ग़ज़ल...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  19. गज़ल के साथ साथ आपका चित्र संयोजन भी बहुत उम्दा होता है...बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  20. दिलकश -क्या कहने -दिल कहे रुक जा रे रुक जा यहीं पे कहीं जो बात है यहाँ सारे ब्लॉग जगत में नहीं !:)

    उत्तर देंहटाएं
  21. VARSHA JI , AAPKE BLOG PAR PAHLEE BAAR AANE KAA
    SHUBH AVSAR MILAA HAI . AAPKEE KUCHH GAZALEN
    PADH GAYAA HOON . GAZALON KEE KHOOB VARSHA KAR
    RAHEE HAIN AAP .

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह वाह और बस वाह वाह
    बहुत बहुत बहुत सुन्दर गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  23. डॉ॰ श्याम गुप्ता जी,
    हार्दिक धन्यवाद आपको.

    उत्तर देंहटाएं
  24. वीरू भाई जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... यह आपकी सहृदयता है.
    हार्दिक धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  25. संजय मिश्रा हबीब जी,
    मेरी गज़ल को पसन्द करने के लिए हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  26. समीरलाल जी, Udan Tashtari
    आपने मेरी पोस्ट की प्रशंसा की.... यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है.
    हार्दिक धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  27. अरविन्द मिश्रा जी,
    यह आपकी सहृदयता है कि आपने मेरे ब्लॉग को पसन्द किया....
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी.... हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  28. प्राण शर्मा जी,
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है.आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  29. अनामिका जी,
    आपकी इस आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  30. दीपक सैनी जी,
    आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  31. नीरज गोस्वामी जी,
    आपका स्नेह मेरी गज़ल को मिला....यह मेरा सौभाग्य है.
    हार्दिक आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  32. सभी शेर अच्छे.
    बढ़िया ग़ज़ल.

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने! बेहतरीन प्रस्तुती!
    आपको दुर्गा पूजा की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  34. wow very nice blog this is, in all posting you have wonderfull picture's

    India is a land of many festivals, known global for its traditions, rituals, fairs and festivals. A few snaps dont belong to India, there's much more to India than this...!!!.
    Visit for India

    उत्तर देंहटाएं
  35. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  36. दिल की बात बहुत ख़ूबसूरती से कही गयी है गजल के द्वारा .....मेरे ब्लॉग को सराहने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद....

    उत्तर देंहटाएं
  37. सागर जी,
    इस सराहना के लिए हार्दिक धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  38. कुंवर कुसुमेश जी,
    मेरी ग़ज़ल को पसंद करने के लिए हार्दिक आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  39. सुरेन्द्र "मुल्हिद" जी,
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है.हार्दिक धन्यवाद आपको.

    उत्तर देंहटाएं
  40. उर्मि चक्रवर्ती जी, Babli
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद !
    आपको भी दुर्गा पूजा की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  41. शाहजाहां खान “लुत्फ़ी कैमूरी”जी,
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है.
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... यह आपकी सहृदयता है.
    हार्दिक धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  42. महेन्द्र श्रीवास्तव जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  43. Unlucky ( Why ? )

    Welcome on my blog.
    It's pleasure to me .
    Thanks for your comments.

    उत्तर देंहटाएं
  44. कैलाश सी. शर्मा जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  45. डॉ.सोनरूपा विशाल जी,
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है.
    आपके आगमन से प्रसन्नता हुई......एवं यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी ग़ज़ल पसन्द आयी।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  46. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    आपका स्नेह मेरी गज़ल को मिला....यह मेरा सौभाग्य है.
    हार्दिक आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  47. Very Nice Composition Varsh Ji.. Regards..

    Happy Durga Puja...

    उत्तर देंहटाएं
  48. उम्मीदों की बरसात हो जाए तो हालात अपने आप ही बदल जाते हैं ... लाजवाब शेर है सारे ...

    उत्तर देंहटाएं
  49. अनिल अवतार जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद !
    विजयादशमी पर आपको भी सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  50. दिगम्बर नासवा जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  51. बहुत ही सुन्दर
    विजयादशमी पर आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  52. रश्मि प्रभा जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... यह आपकी सहृदयता है.
    हार्दिक धन्यवाद .
    विजयादशमी पर आपको भी सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  53. उम्मीद का दामन सम्हालती ग़ज़ल अच्छी लगी .

    उत्तर देंहटाएं
  54. आपको एवं आपके परिवार को दशहरे की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  55. विजयादशमी पर आपको हार्दिक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  56. वर्षा जी नमस्कार, भाव पूर्ण सुन्दर गजल

    उत्तर देंहटाएं
  57. दिल से दिल की खूबसूरत बातें....

    उत्तर देंहटाएं
  58. आशीष जी,
    आपको मेरी गज़ल अच्छी लगी... यह आपकी सहृदयता है.
    हार्दिक धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  59. बबली जी,
    विजयादशमी पर आपको भी सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  60. कुंवर कुसुमेश जी,
    सपरिवार आपको भी विजयादशमी पर हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  61. सुमन दुबे जी,
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है.
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... यह आपकी सहृदयता है.
    हार्दिक धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  62. कुमार जी,
    मेरी गज़ल पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  63. बहुत खूब ,वर्षा जी.
    रिमझिम बरसातों के लिए शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं
  64. ऐसे ख्याल तो हर इंसान के सबसे अच्छे ख्यालों में से है..

    उत्तर देंहटाएं
  65. Varsha Ji,

    Beautiful thoughts packed ghazal!! Excellent!


    -Ashoo

    उत्तर देंहटाएं
  66. विशाल जी,
    आप जैसे ग़ज़लकार के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  67. प्रतीक माहेश्वरी जी,
    आपके द्वारा की गई मेरी ग़ज़ल की इस प्रशंसा के लिए मैं आपकी अत्यन्त आभारी हूं.हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  68. आशु जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी इस आत्मीय टिप्पणी के लिए...हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  69. पढ़ी आपकी ग़ज़ल सुहानी .
    छलके दिल से बस जज्बात..


    आप बहुत अच्छा लिखती हैं.......

    मनोज

    उत्तर देंहटाएं
  70. Hello! I just wanted to take the time to make a comment and say I have really enjoyed reading your blog. Thanks for all your work.

    जगजीत सिंह आधुनिक गजल गायन की अग्रणी है.एक ऐसा बेहतरीन कलाकार जिसने ग़ज़ल गायकी के सारे अंदाज़ बदल दिए ग़ज़ल को जन जन तक पहुचाया, ऐसा महान गायक आज हमारे बिच नहीं रहा,
    उनके बारे में और अधिक पढ़ें : जगजीत सिंह

    उत्तर देंहटाएं
  71. वाह...वाह...वाह...

    बहुत ही सुन्दर....

    उत्तर देंहटाएं
  72. bahut achhi ghazal,bhaawon ko bahut achhe se vyakt kia hai,badhaai!

    उत्तर देंहटाएं
  73. वाह बहुत सुन्दर ,,,,
    बेहतरीन गजल

    उत्तर देंहटाएं