गुरुवार, फ़रवरी 02, 2012

है ये चाहत का असर .....


28 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब, लाजबाब !
    लम्बे अंतराल के बाद स्वागत है आपका आदरणीय वर्षा सिंह जी

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीय वर्षा सिंह जी,
    आपका स्वागत है !
    सुन्दर ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत दिन बाद ज़बरदस्त गजल पढ़ कर मज़ा आ गया।


    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. अब हवा के शोर में सब शब्द घुट घुट मर रहे,
    हृदय के हर हाल पर, लिखती रहें अपनी खबर।

    उत्तर देंहटाएं
  5. लंबी गैर-हाजरी के बाद ....अपनी सुंदर गजल के साथ इस ब्लॉग-जगत में आप का स्वागत है ...उम्मीद है आप खुश और स्वस्थ होंगी ...
    शुभकामनाये !

    उत्तर देंहटाएं
  6. lagta hai jyada hi asar ho gaya aur lagta hai ab apko ye blog bhi paraya lagta hai tabhi itne dino baad dekha.

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut sunder ,........bahut din baad aap blog per ayi hai

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूब , लाजवाब गजल ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. मेरी टिप्पणी कहाँ चली गई,वर्षा जी.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत खूब...
    आपको सुनना भी अच्छा लगा..

    शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  11. itne dino tak geet kavita aur ghazal kuch bhee na tha
    chuppiyon se tay hua tha blog mitro ka safar

    hindi department sagar me aapki kavitaon ko sunne ke itne dino baad aapko punah padhne ka mauka mila...behtarin ghazal ke liye sadar badhayee aaur amantran ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  12. Hi, I am the owner of a Photography blog photographymc.blogspot.com

    I'd like to exchange links with you. I added your blog to my Favorites!

    Pay me a visit and let me know with a comment on the blog what you think about it.

    P.s.

    There's something you may be interested in, on my blog started a free online photography course, that includes over 200 lessons at this link: Free online Digital Photography Course

    उत्तर देंहटाएं
  13. पढके ग़ज़ल ये आपकी मन फाग हो गया ....सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति .आभार . ' लोग कहतें हैं की वर्षा है ये चाहत का असर ',कोई झूठ भला क्यों बोलेगा .

    उत्तर देंहटाएं
  14. लाजवाब गजल ...
    शायराना हो गई है भोर ....रातें शायरी ........बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  15. बात ही बात में कुछ बात ऐसी कह देना
    यह हुनर सीखने से कब किसे मिल सकता है

    अच्छा हुआ की आज यहाँ आ गए ... स्नेह और आशीर्वाद

    उत्तर देंहटाएं