गुरुवार, मार्च 29, 2012

तनहाई ....


16 टिप्‍पणियां:

  1. गजल और तनहाई का गहरा साथ है .... सुंदर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब! भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी पोस्ट पर आना किसी उपलब्धि से कम नहीं, ग़ज़ब लिखती हैं आप! मेरी शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  5. superb lines with unpredictable
    feelings and emotins.

    DEDICATED TO YOUR DEEP THOUGHT

    तनहाइयों में फिर कहाँ यूँ रात ढलती है?
    खुले होते हैं लब लेकिन कहाँ बात होती है?

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस रात की तन्हाई भी क्या गज़ब ढाती है ... बहुत खूब ..

    उत्तर देंहटाएं