बुधवार, मई 16, 2012

नाम लेती हूं.......


12 टिप्‍पणियां:

  1. शानदार डॉ. दीदी......
    ख्यालों मे खोई खुद को ही याद नहीं रख पाती मैं

    उत्तर देंहटाएं
  2. जिस के ख्यालों में ,कोई खुद खो जाये
    दिल उसको भला कहाँ भूल पाए ....:-))


    शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. ek bada hee dilkash geet yaad aa gaya ..isi ko pyar kahte hain isi ko pyar kahte hain..

    उत्तर देंहटाएं
  4. खोज लेतीं हूँ फिर खुद को...तुम में ही.....
    :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. झुकी पलकें ,उलझी लटें और अनुनय से भरी आँखें प्रियतम का पता पूछती हैं ?

    उत्तर देंहटाएं
  6. उम्दा प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  7. ऐसा अक्सर होता है ... जिसको चाहता है इंसान उसी के ख्यालों में डूबा रहता है ...

    उत्तर देंहटाएं