मंगलवार, सितंबर 07, 2010

नभ व्यथा का

 - डॉ. वर्षा सिंह

नयन में उमड़ा जलद है।
नभ व्यथा का भी वृहद है।


आंसुओं से तर-बतर है
यह कथानक भी दुखद है।


इस दफा मौसम अजब है
आग मन में तन शरद है।


दोष क्या दें अब तिमिर को
रोशनी को आज मद है।


नींद को कैसे मनाएं
ख्वाब की खोई सनद है।


त्रासदी ‘वर्षा’ कहें क्या?
शत्रु अब तो मेघ खुद हैं।

13 टिप्‍पणियां:

  1. नींद को कैसे मनाएं
    ख्वाब की खोई सनद है।

    बहुत खूबसूरत शे‘र हुआ है ,वर्षा जी बधाई
    श्याम सखा श्याम

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह बैरी word verification हटाएं
    टिप्पणीकार को मुसीबत से निजात दिलाएं

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत दिनों बाद शुद्ध हिन्दी में एक ख़ूबसूरत ग़ज़ल पढने को मिली ,रचनाकारा मोहतरमा डा:वर्षा सिंह जी को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. संजय दानी जी, आपको धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस घनघोर बरसात में आपका ये लिखना - शत्रु मेघ है ... बहुत खूब.. आपकी कविता बहुत सुन्दर लगी.. शुभप्रभात..

    उत्तर देंहटाएं
  6. डॉ. नूतन ‘अमृता’, आपको धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. कल 05/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. नभ व्यथा का भी वृहद है....

    वाह... सुन्दर प्रयोंग.. सुन्दर ग़ज़ल...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  10. यशवन्त माथुर जी,
    05/09/2011 को मेरी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक करने के लिए आपको बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  11. सदा जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  12. S.M.HABIB ji,(Sanjay Mishra 'Habib')
    Thanks for your comments.
    Hope you will be give me your valuable response on my future posts.

    उत्तर देंहटाएं