मंगलवार, जून 07, 2011

आंचल को धानी लिख देना......


71 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया रचना ...सुंदर अहसास लिए

    उत्तर देंहटाएं
  2. चाहत पर बंधन का पहरा
    कुछ तो मनमानी लिख देना ... बहुत सुन्दर ...भीगे भीगे से एहसास

    उत्तर देंहटाएं
  3. मौसम को राजा और "वर्षा" को रानी , बेशक लिखा जायेगा , वाह....उम्दा शेर कहे है आपने बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. छोटी-छोटी बंदिशों में भावों की गहराई समेत कर बड़ी ही खुबसूरत गजल और गीत लिखती हैं आप.आपकी शैली काबिलेतारीफ है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. beautful very nice :)
    mosam ko gar raja likhna
    varsha ko rani likh dena
    very nice :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. मौसम को यदि राजा लिखना,
    वर्षा को रानी लिख देना।
    बेहतरीन गज़ल हर मिसरा ख़ूबसूरत है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. लाजवाब ग़ज़ल.
    और मक्ता,
    मौसम को यदि राजा लिखना,
    वर्षा को रानी लिख देना।
    अहा, कमाल कर दिया आपने,वर्षा जी.
    आजकल एक वर्ड चल गया है न.वो क्या है,जब मन ख़ुश होता है तो कहते हैं... अरे हाँ..वो लवली सवली.
    बस मक्ता ....लवली सवली
    really beautiful.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सरल,सहज और एहसास से भरपूर ...पढ़ कर सकूं मिलता है !
    शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस खूबसूरत ग़ज़ल के लिए आभार . कृपया मेरे ब्लॉग पर आएं और देखें आपके स्वागत में खड़े हैं-
    'किस दुनिया के जन्तु ?'

    उत्तर देंहटाएं
  10. चाहत पर बंधन का पहरा ,
    कुछ तो मनमानी लिख देना ,
    मौसम को यदि राजा लिखना ,
    वर्षा को रानी लिख देना ।
    इंतज़ार के बाद बेहद अच्छी भाव संसिक्त ,रागात्मक कविता .आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  11. waah! bhut khub... apka bhi andaz khubsurat hai koi rachna jaani pahchani likh dena...

    उत्तर देंहटाएं
  12. गज़ब गज़ब...मोसम, वर्षा...राजा रानी.....जबरदस्त!!!

    मौसम को यदि राजा लिखना ,
    वर्षा को रानी लिख देना ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. bahut sunder gazal varsha to shbdon ki rani hai hi
    badhai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी पोस्ट चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
  15. respected Varsha ji,prathm baar aapke blog par aaye hain.....bahut prabhavit hue hain...aapka blog to bahut sundar hai hi...gazal bahut manbhavan lagi...abhi aur padhenge..aur batate rahenge..
    regards

    उत्तर देंहटाएं
  16. मौसम को यदि राजा लिखना ,
    वर्षा को रानी लिख देना ।
    bahut pyari rachna

    उत्तर देंहटाएं
  17. वरखा रानी के आगमन के पूर्व की प्रार्थना -जीवन की दो मूल भूत आवश्यकता घान और पानी की पूर्ति । चाहत पर खूव प्रतिवंध लगा दिये थे किन्तु इस मौसम में तो मनमानी की अपील है। संसार नश्वर है किन्तु प्रेम अमर है अमर न होता तो आज न मीरा होती न राधा। एक पक्षी भी है जो मात्र चांद दर्शन की प्रत्याशा में दिन का बलिदान करता है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. वैसे तो आप की गज़लगोई का मैं सदा से कायल हूं मगर इस गज़ल में
    तख्ललुस का अज़ब प्रयोग गज़ब ला गया मक्ते में बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  19. ✿ ज्योति मिश्रा जी,
    ✿ रोशी जी,
    ✿ विवेक जैन जी,
    ✿ डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    ✿ संगीता स्वरुप जी,


    आपका स्नेह मेरी गज़ल को मिला.....यह मेरा सौभाग्य है.
    आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  20. ✿ अनुराग शर्मा जी,
    ✿ कुश्वंश जी,
    ✿ सपना निगम जी,
    ✿ मीनाक्षी पंत जी,
    ✿ संजय दानी जी,


    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए आपको हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    कृपया इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  21. ✿ डॉ॰ दिव्या श्रीवास्तव जी,
    ✿ कुंवर कुसुमेश जी,
    ✿ अशोक सलूजा जी,
    ✿ वीना जी,
    ✿ स्वराज्य करुन जी,


    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया.हार्दिक धन्यवाद एवं आभार...
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  22. ✿ वीरू भाई जी,
    ✿ सुषमा जी,
    ✿ समीरलाल जी,
    ✿ रचना जी,
    ✿ दिलबाग विर्क जी,


    आपके विचारों का मेरे ब्लॉग्स पर सदा स्वागत है।
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं।
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार .... कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  23. ✿ अभिन्न जी,
    ✿ ज्योति सिंह जी,
    ✿ ब्रजमोहन श्रीवास्तव जी,
    ✿ श्याम सखा 'श्याम' जी,


    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं।
    प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  24. सुन्दर अभिव्यक्ति्…..….

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत ही खूबसूरत ग़ज़ल ... सभी शेर लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी (कोई पुरानी या नयी ) प्रस्तुति मंगलवार 14 - 06 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच- ५० ..चर्चामंच

    उत्तर देंहटाएं
  27. Virendra ji,
    Maheshwari kaneri ji,

    Thank you for visiting my blog!
    It's pleasure to me . I feel honored by your comment.

    उत्तर देंहटाएं
  28. रजनी मल्होत्रा नैय्यर जी,
    दिगम्बर नासवा जी,

    मेरी गज़ल पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आपके इस अनुग्रह के लिए आपको बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  29. संगीता स्वरुप जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं.
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपने मेरी ग़ज़ल का चयन साप्ताहिक काव्य मंच- ५० हेतु किया है . आपको बहुत बहुत धन्यवाद !
    एवं पुनः हार्दिक आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  30. वर्षा जी आप मेरे ब्लॉग पर आईँ और मेरी ग़ज़ल पर सुखद प्रतिक्रिया कीं साथ ही अपने प्यारे से ब्लॉग पर बुलाया बहुत-बहुत धन्यवाद। 'आँचल को धानी कर देना' 'वर्षा को रानी कर देना' बहुत प्यारी ग़ज़ल, किन शब्दों में तारीफ़ करूँ बस यूँ समझेँ कि ऐसा बेबाक़ और निश्छल आग्रह शायद अन्यत्र हो। पुन: आभार
    -ग़ाफ़िल

    उत्तर देंहटाएं
  31. सुनील कुमार जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए आपको हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    कृपया इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  32. चन्द्रभूषन मिश्रा 'ग़ाफ़िल ' जी,
    आप जैसे वरिष्ठ शायर के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आपकी इस अनुग्रहपूर्ण टिप्पणी के लिए हृदय से आभारी हूं.
    पुनः इस हेतु आपको अनेक धन्यवाद एवं कोटिशः मंगलकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत सुन्दर गजल ... और चित्र और रंग संयोजन भी कमाल का...

    उत्तर देंहटाएं
  34. वर्षा जी! इसमें धन्यवाद की क्या जरूरत यह तो मेरे लिए एक सुखद अनुभूति थी आप मेरे ब्लॉग को फॉलो करिए ना! शायद आप निराश नहीं होंगी

    उत्तर देंहटाएं
  35. डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  36. चन्द्रभूषन मिश्रा 'ग़ाफ़िल ' जी,
    जरूर....आपका अनुरोध सिर-माथे पर....पुन: आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  37. बर्षा को रानी लिख देना - वह क्या बात है? सुन्दर प्रयोग.बहुत खुबसूरत ग़ज़ल बर्षा जी.
    सादर
    श्यामल सुमन
    +919955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  38. श्यामल सुमन जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया.हार्दिक धन्यवाद एवं आभार...
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  39. लाज़वाब गज़ल..हरेक शेर एक नयी ताज़गी लिये हुए और बहुत उम्दा..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  40. चाहत पर बंधन का पहरा ,कुछ तो मनमानी लिख देना
    और ये कहना ....
    मौसम को यदि राजा लिखना ,वर्षा को रानी लिख देना ....बहुत खूबसूरत ,आप इतना दिल के करीब लिखती है के वाह वाही के लिए शब्द भी बौने हो जाते है .....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  41. कैलाश जी,
    मेरी गज़ल पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आपके इस अनुग्रह के लिए आपको बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  42. अंजू जी,
    आपकी इस अनुग्रहपूर्ण टिप्पणी के लिए हृदय से आभारी हूं.
    कृपया इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  43. मौसम को राजा और पानी को रानी कहने की आपकी अदा बहुत पसंद आई....

    उत्तर देंहटाएं
  44. नेहा त्रिवेदी जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया.हार्दिक धन्यवाद एवं आभार...
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  45. mausam raja, warsha to raani hoti hi hai....

    aapki pichli charon gazlen padhee...mazaa aa gaya..

    apko follow karne se khud ko nahi rok paya....

    उत्तर देंहटाएं
  46. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना लिखा है आपने! बेहतरीन प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  47. मौसम को यदि राजा लिखना ,
    वर्षा को रानी लिख देना ।
    वाह बहुत सुन्दर गज़ल। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  48. तुम मेरे हँसते चेहरे को , चाहे नूरानी लिख देना
    किन्तु बात आँखों की आये,केवल वीरानी लिख देना.
    हाथ खुले थे ,रोक न पाया,मन को मैंने बहुत मनाया
    इतना बाँटा प्यार ,ह्रदय के खाते में हानि लिख देना.

    उत्तर देंहटाएं
  49. मौसम को यदि राजा लिखना
    वर्षा को रानी लिख देना !
    वर्षा जी,वैसे तो ग़ज़ल का हर शेरखूबसूरत है मगर इस शेर के लिए आपकी लेखनी को नमन करता हूँ !

    उत्तर देंहटाएं
  50. देवेन्द्र शर्मा जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  51. उर्मि जी,
    मेरी गज़ल पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आपके इस अनुग्रह के लिए आपको बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  52. निर्मला कपिला जी,
    आप जैसी वरिष्ठ शायरा के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  53. अरुण कुमार निगम जी,
    काव्यात्मक पंक्तियों के माध्यम से मेरी गजल को सराहने के लिए आपको हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  54. ज्ञानचंद मर्मज्ञ जी,
    आपकी इस अनुग्रहपूर्ण टिप्पणी के लिए हृदय से आभारी हूं.
    कृपया इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  55. टिप्पणी देकर प्रोत्साहित करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  56. Babli (Urmi ji),
    Thank you for visiting my blog! I thoroughly am enjoying reading yours!

    उत्तर देंहटाएं
  57. Mr.Haddock ,
    Thanks for your comments.Hope you will be give me your valuable response on my future posts.

    उत्तर देंहटाएं
  58. कितनी बार द्वार से लौटा ,
    छूकर बंद किवाड़ तुम्हारे .ब्लॉग पर जितनी बार लौटे आँचल का रंग धानी ही देखा .अब एक नै रचना के साथ इस रंग को भी बदलो .

    उत्तर देंहटाएं
  59. अनिल अवतार जी,
    आपकी इस अनुग्रहपूर्ण टिप्पणी के लिए हृदय से आभारी हूं.
    कृपया इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं