सोमवार, जून 27, 2011

प्यार की गुज़ारिशें .....


93 टिप्‍पणियां:

  1. बारिश पर बढ़िया ग़ज़ल और प्यारी फोटो देख कर मज़ा आ गया.

    उत्तर देंहटाएं
  2. wah Bahut khoob, chhoti bahar ki shandar ghazal ...

    Matle ke liye vishesh badhai ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर भावों से परिपूर्ण सुन्दर रचना...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर भावों से सजी गुजारिशें

    उत्तर देंहटाएं
  5. चाहतों की हो रहीं, कामयाब कोशिशें,
    तोड़ने लगा है दिल, इस जहां की बन्दिशें।
    ऐसा लगता है छोटी बहर में आपकी लेखनी की
    अज़मत बेहद निखरती है , बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर , सुन्दर रचना...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. कुंवर कुसुमेश जी,
    आभारी हूं आपकी टिप्पणी के लिए। इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुशांत जैन जी,
    आपने मेरी इस गज़ल को पसन्द किया...हृदय से आभारी हूं.
    आपको अनेक धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  9. 'गाफिल' जी,
    आपने मेरी ग़ज़ल को सराहा...आभारी हूं.
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  10. संगीता स्वरुप जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी ग़ज़ल पसन्द आई.... मेरी ग़ज़ल को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  11. संजय दानी जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !
    मेरे ब्लॉग पर आपके विचारों का हमेशा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. संजय कुमार चौरसिया जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  13. गूढ़ सन्देश देती एक रोमांश भरी रचना वर्षा जी आपकी लेखनी में विस्तृत आयाम देखकर अपार संभावनाओं का संसार दिखाई देता है. आपकी रचनाये सदैव से ही मन मोहती है बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुंदर रचना..
    बस आने ही वाला है सावन....और लगने वाली है झड़ी....

    उत्तर देंहटाएं
  15. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 28 - 06 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच-- 52 ..चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
  16. वर्षा जी,

    अति सुन्दर रचना और उतनी ही सुन्दर फोटो जो भाव को और भी जाग्रत करती है..

    आशु

    उत्तर देंहटाएं
  17. कुश्वंश जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  18. आशुतोष जी,
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ....

    उत्तर देंहटाएं
  19. वीना जी,
    मेरी गज़ल को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  20. संगीता स्वरुप जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  21. आशु जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी यह गज़ल आपको पसन्द आई. आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  22. रोशी जी,
    आपका स्नेह मेरी गज़ल को मिला.....यह मेरा सौभाग्य है.
    आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  23. मन के भावों को बयां करती गुजारिशें ..... सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  24. आपकी यह खूबसूरत गज़ल हमें भी 'सावनी सिफारिशों' से नवाज़ गयी है ! बहुत सुखद अहसास हुआ इसे पढ़ कर ! बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  25. बादलों के बीच वो,
    आज खिलखिला हँसें।

    उत्तर देंहटाएं
  26. बारिश की उमंग लिये सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  27. डॉ . सिंह सकारात्मक भावों का दस्तावेज पढ़ कर मन प्रसन्न हो गया , खूब लिखा है मनोयोग से ...शुक्रिया जी /

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत अच्छी लगी आपकी ये गज़ल.

    ------------------
    कल 29/06/2011को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है-
    आपके विचारों का स्वागत है .
    धन्यवाद
    नयी-पुरानी हलचल

    उत्तर देंहटाएं
  29. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए आप को बहुत-बहुत धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  30. साधना वैद्य जी,
    आपका आना सुखद लगा ...... हार्दिक धन्यवाद !
    आपके विचारों का मेरे ब्लॉग्स पर सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  31. प्रवीण पाण्डेय जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया.... आभारी हूं। आपकी काव्यात्मक टिप्पणी के लिए आपको बहुत-बहुत धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  32. नीलांश जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  33. अजय कुमार जी,
    मेरी गज़ल पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  34. उदयवीर सिंह जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  35. यशवन्त माथुर जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद.
    दिनांक 29/06/2011 को मेरी किसी पोस्ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक करने एवं अनुग्रहपूर्ण सुखद समाचार देने के लिये मैं आपकी हृदय से आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  36. याद आ गया ,मुझ को भी जीना,
    पढ़ के आप का सावन का महीना|

    सरल और भावपूर्ण !
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  37. अशोक सलूजा जी,
    आपका आना सुखद लगा ....आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ....

    उत्तर देंहटाएं
  38. सुन्दर तस्वीर के साथ बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण ग़ज़ल लिखा है आपने! आपकी लेखनी की जितनी भी तारीफ़ की जाए कम है! उम्दा ग़ज़ल!

    उत्तर देंहटाएं
  39. बहुत सुंदर... क्या बात है.

    उत्तर देंहटाएं
  40. उर्मि जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  41. महेन्द्र जी,
    आपकी इस अनुग्रहपूर्ण टिप्पणी के लिए हृदय से आभारी हूं.
    कृपया इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  42. sundar...dilko chhoone vali ghazal..mausam bhi varsha ka hai ab to...

    उत्तर देंहटाएं
  43. अनामिका जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  44. गिरीश पंकज जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  45. "सुन ली हैं वर्षा ने ,सावनी सिफारिशें "मुग्धा भाव की श्रृंगारिक ग़ज़ल ."प्यार की गुजारिशें ".प्रतीक्षा फलवती होती है इंतज़ार के बाद कुछ अच्छा नसीब हो ,अच्छा पढने को मिले ।
    बूँद बूँद बारिशें ,जाग रहीं ख्वाहिंशें ,
    हो रहीं गुजारिशें .

    उत्तर देंहटाएं
  46. अति सुन्दर भाव युक्त गुजारिशें ...सुन्दर गजल ..

    उत्तर देंहटाएं
  47. जेठ , संग ले गये
    गर्मियों की गर्दिशें
    मिल गईं बहुरिया को
    चौमासी गुंजाइशें .

    उत्तर देंहटाएं
  48. वीरूभाई जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  49. श्रीप्रकाश डिमरी जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  50. अरुण कुमार निगम जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  51. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  52. विशाल जी,
    आपका आना सुखद लगा ....आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार

    उत्तर देंहटाएं
  53. मृदुला प्रधान जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  54. अरुण कुमार निगम जी,
    आग्रह के लिए आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  55. varshhha ji
    behad -behad hi pasand aai aapki barish se gujarish .
    kya khoob likh hai aapne
    bahut hi shandar gazal
    badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  56. बहुत प्यारी ग़ज़ल के लिये वधाई वर्षा जी

    उत्तर देंहटाएं
  57. बहुत सुन्दर रचना...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  58. इमेज्नरी दुनिया में ले जाने को शक्षम है ये गज़ल ... बहुत खूब ..

    उत्तर देंहटाएं
  59. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  60. पूनम जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  61. अमरेंद्र अमर जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  62. दिगम्बर नासवा जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  63. उर्मि जी,
    आपके आमन्त्रण के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  64. बहुत अच्छी लगी छोटे बहर की यह ग़ज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  65. मनोज कुमार जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  66. सावन की फुहारों में बरसती रिमझिम बूंदों से बाते ..

    उत्तर देंहटाएं
  67. के आर बारस्कर जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  68. सपना निगम जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  69. यशवन्त माथुर जी,
    आपकी इस सूचना ने मेरा उत्साह बढ़ाया है. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  70. वाह वाह वर्षा जी, आपकी प्यारी प्यारी गुजारिशें बहुत ही भाईँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  71. आपने बड़े ख़ूबसूरत ख़यालों से सजा कर एक निहायत उम्दा ग़ज़ल लिखी है।

    उत्तर देंहटाएं
  72. अस्वस्थता के कारण करीब 20 दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    उत्तर देंहटाएं
  73. प्रिय ब्लोग्गर मित्रो
    प्रणाम,
    अब आपके लिये एक मोका है आप भेजिए अपनी कोई भी रचना जो जन्मदिन या दोस्ती पर लिखी गई हो! रचना आपकी स्वरचित होना अनिवार्य है! आपकी रचना मुझे 20 जुलाई तक मिल जानी चाहिए! इसके बाद आयी हुई रचना स्वीकार नहीं की जायेगी! आप अपनी रचना हमें "यूनिकोड" फांट में ही भेंजें! आप एक से अधिक रचना भी भेजें सकते हो! रचना के साथ आप चाहें तो अपनी फोटो, वेब लिंक(ब्लॉग लिंक), ई-मेल व नाम भी अपनी पोस्ट में लिख सकते है! प्रथम स्थान पर आने वाले रचनाकर को एक प्रमाण पत्र दिया जायेगा! रचना का चयन "स्मस हिन्दी ब्लॉग" द्वारा किया जायेगा! जो सभी को मान्य होगा!

    मेरे इस पते पर अपनी रचना भेजें sonuagra0009@gmail.com या आप मेरे ब्लॉग sms hindi मे टिप्पणि के रूप में भी अपनी रचना भेज सकते हो.

    हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई?

    नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है! मेरा ब्लॉग का लिंक्स दे रहा हूं!

    हेल्लो दोस्तों आगामी..

    उत्तर देंहटाएं
  74. आशा जी,
    आपकी स्नेह भरी इस टिप्पणी के लिए हार्दिक आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  75. संजय भास्कर जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं। बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  76. संजय भास्कर जी,
    आशा है कि अब आप का स्वास्थ्य पूर्ण रूप से अच्छा होगा....आपको मेरी हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  77. aadeniya varsha ji..aaj maine aapki bahut sari ghazalein padhi.chote bade har meter mein..bibidh behar mein..shandar ghazalein ..ab dil ki baat hai to phir dil se hi ki jayegi...jab hain har ashaar itne dilkash to dil se daad bhi di jayegi

    उत्तर देंहटाएं
  78. आशुतोष जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है,कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  79. अंजू जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं