शनिवार, सितंबर 10, 2011

जब से तुमको पाया मैंने .....


106 टिप्‍पणियां:

  1. तुमने छेड़े स्वर मन मोही.........क्या बात है गजब, वाह वाह

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुनील कुमार जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  3. रश्मि प्रभा जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  4. man ki udan to anynatrit hai....lekin jab tak iski udan upar ki taraf hai tab tak hi zindgi hai.

    sunder kavita.

    उत्तर देंहटाएं
  5. अनामिका जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. पर फैलाता मन का पंछी
    ऊंची इसे उड़ान मिल गई।
    .. ये पल ही कुछ ऐसे होते हैं जब किसी मनभावन को पा ले तो मन उन्मुक्त वितान में उड़ान भरने लगता है। सरस, गेय, और बेहतरीन ग़ज़ल के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूबसूरत ...मन वीणा को तान मिल गयी ... सरस रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेटियां होती ही ऐसी हैं ।
    बहुत सुन्दर अहसास ।
    सुन्दर ग़ज़ल ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सृगार रस से उत्प्रोत एक शानदार ग़ज़ल पढ़कर मन प्रसन्न हो गया , रेशमी हो गया , बधाई अच्छे शब्द संचयन के लिए भी काव्य के लिए भी

    उत्तर देंहटाएं
  10. आप अपनी प्यारी-सी ग़ज़ल के साथ जो चित्र लगाती हैं वो बड़े सटीक और खूबसूरत होते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  11. उत्साह से परिपूर्ण पंक्तियाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. तुमने छेड़े स्वर मनमोही
    मन वीणा को तान मिल गयी...

    वाह... कमाल का शेर... उम्दा ग़ज़ल..
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 12-09-2011 को सोमवासरीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  14. आज फिर वर्षा बहार आई ,
    सबके मन में फुहार लाई

    शुभकामनायें!|

    उत्तर देंहटाएं
  15. तुमने छेड़े स्वर मनमोही
    मन वीणा को तान मिल गयी...
    पर फैलाता मन का पंछी
    ऊंची इसे उड़ान मिल गई।
    बहुत समय के बाद बहुत अच्छी श्रृंगार संसिक्त ग़ज़ल पढ़ी .शुक्रिया !

    उत्तर देंहटाएं
  16. मनोज कुमार जी,
    आपके इस अनुग्रह के लिए आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  17. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ....

    उत्तर देंहटाएं
  18. संगीता स्वरुप जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  19. डॉ टी एस दराल जी,
    आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  20. चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ जी,
    अत्यन्त आभारी हूं। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  21. कुश्वंश जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  22. कुंवर कुसुमेश जी,
    इस अनुग्रहपूर्ण टिप्पणी के लिए बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  23. स्वराज्य करुण जी,
    आपका बहुत-बहुत आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  24. प्रवीण पाण्डेय जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए..
    हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  25. संजय कुमार चौरसिया जी,
    हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  26. संजय मिश्रा जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  27. चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपने मेरी ग़ज़ल का चयन सोमवासरीय चर्चा मंच हेतु किया है . आपको बहुत बहुत धन्यवाद ! आपकी इस आत्मीयता के लिए मैं अनुगृहीत हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  28. अशोक जी, - यादें -
    हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  29. वीरूभाई जी,
    आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  30. वर्षा जी, आपकी कविताओं में जो शब्दों की नाजुकी और भावों की कोमलता होती है वह इन्हें बार बार पढ़ने और गुनगुनाने को बाध्य करती है.सच कहूँ तो आपकी हर कविता को बड़े ही मन से ही पढ़ती हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  31. wah .......man ke komal bhavon ka bahut hi khoobsoorat chitran.

    उत्तर देंहटाएं
  32. होठों को पहचान मिल गई ,
    जीवन को पहचान मिल गई .
    जबसे तुमको पाया मैंने ,जीवन को ज्यों ,खान मिल गई .
    कोमल भाव की श्रृंगार परक ग़ज़ल .पढने वाला भी निहाल .

    उत्तर देंहटाएं
  33. पर फैलाता मन का पंछी
    ऊंची इसे उड़ान मिल गई।

    तुमने छेड़े स्वर मनमोही
    मन वीणा को तान मिल गयी...

    कोमल भावों की सुंदर गजल और ब्लॉग पर चित्र सहित प्रस्तुतिकरण और भी मनमोहक ...कैसे करती हैं आप

    उत्तर देंहटाएं
  34. नेह की वर्षा तन मन भींगा बहुत अच्छा।

    उत्तर देंहटाएं
  35. नेह की वर्षा अंदर तक भिगो गयी. लाजवाब प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  36. man vina ko tan mil gai kya abhivyakti hai
    bahut sunder
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  37. बहुत सुन्दर रचना | बधाई |
    मेरे ब्लॉग में भी पधारें |
    **मेरी कविता**

    उत्तर देंहटाएं
  38. वाह...वाह...वाह....

    प्रवाहमयी..मद्धम प्रवाह से मन में उतरती भावपूर्ण अतिसुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  39. सपना निगम जी,
    इस अनुग्रहपूर्ण टिप्पणी के लिए बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  40. वन्दना जी,
    आपका स्नेह मेरी गजल को मिला..यह मेरा सौभाग्य है.
    बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  41. वीरू भाई जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं...

    उत्तर देंहटाएं
  42. कुमार जी,
    हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  43. वन्दना जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  44. निशा महाराणा जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  45. कैलाश सी. शर्मा जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  46. रचना दीक्षित जी,
    आपके इस अनुग्रह के लिए आपको बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  47. रचना जी,
    आपका बहुत-बहुत आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  48. दिलबाग विर्क जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  49. पी.के.साहनी जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  50. रंजना जी,
    आपकी इस आत्मीयता के लिए मैं अनुगृहीत हूं.बहुत-बहुत आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  51. Hi I really liked your blog.
    Hi, I liked the articles in your facebook Notes.
    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. This is totally free of cost, and all the copy rights will remain with you. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner, literature and editorial section of our website and the content shared by different writers and poets. Kindly Reply if you are intersted in it.

    http://www.catchmypost.com

    and kindly reply on mypost@catchmypost.com

    उत्तर देंहटाएं
  52. सरल शब्दों वाली बहुत ही प्यारी कविता है.

    उत्तर देंहटाएं
  53. मन वीणा को तान मिल गयी ...
    बहुत ही लाजवाब दिलकश अंदाज़ के शेर हैं सभी ... आ ब्लॉग पर बहुत ही लाजवाब अंदाज़ में पोस्ट लगाती हैं ... मज़ा आ जाता है ..

    उत्तर देंहटाएं
  54. भूषण जी,
    आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  55. दिगम्बर नासवा जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  56. अहसासों का बहुत अच्छा संयोजन है ॰॰॰॰॰॰ दिल को छूती हैं पंक्तियां ॰॰॰॰ आपकी रचना की तारीफ को शब्दों के धागों में पिरोना मेरे लिये संभव नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  57. बिना किसी अवरोध के मन में सहज उतरती समाती जाती गजल !

    उत्तर देंहटाएं
  58. Dr.Bhawna,
    You are always welcome in my blog.
    I am very glad to see your comment on my poem. Hearty thanks.

    उत्तर देंहटाएं
  59. वीरेन्द्र जैन जी,
    इस अनुग्रहपूर्ण टिप्पणी के लिए बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  60. संजय भास्कर जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  61. अरविंद मिश्रा जी,
    इस अनुग्रहपूर्ण टिप्पणी के लिए बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  62. mahendra srivastava ji,
    Thanks for your comments.
    Hope you will be give me your valuable response on my future posts.

    उत्तर देंहटाएं
  63. बहुत खूबसूरत नाचती गाती महकती रचना | :)

    उत्तर देंहटाएं
  64. पढ़े सो निहाल !बहुत सुन्दर रचना और आपकी ब्लोगिया दस्तक के लिए आभार .बहुत समय से सागर आने का मन है .वहां मेरे पूर्व (सहयोगी) सहपाठी डॉ .अनिल बाजपाई हैं ,अशोक बाजपाई जी के छोटे भाई .पूर्व दिप्युती रजिस्ट्रार सागर विश्व विद्यालय के सुपुत्र .योग नहीं बन पा रहा है .कोई आने का खूबसूरत बहाना मिले तो हिम्मत जुटाएं .आपका और डॉ शरद सिंह का वहां होना भी एक आकर्षण है ,लत के देखने का व्यतीत को .वीरुभाई आदर एवं नेहा से -
    ०९३ ५० ९८ ६६ ८५ /०९६१ ९०२२ ९१४

    उत्तर देंहटाएं
  65. मीनाक्षी पंत जी,
    आपके इस अनुग्रह के लिए आपको बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  66. वीरुभाई जी,
    आपका स्नेह मेरी गजल को मिला..यह मेरा सौभाग्य है.
    बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  67. पर फैलाता मन का पंछी
    ऊंची इसे उड़ान मिल गई।

    तुमने छेड़े स्वर मनमोही
    मन वीणा को तान मिल गयी।

    बहुत ही अच्छी ग़ज़ल।
    बार-बार पढ़ने का मन करे।

    उत्तर देंहटाएं
  68. mahendra verma ji,
    Thanks for your comments.
    You are always welcome in my blog.

    उत्तर देंहटाएं
  69. लाजवाब ग़ज़ल...दाद कबूल करें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  70. डॉ.वर्षा सिंह.....हम्मम्मम्म....तो आप हैं वो....वो....वो....जो इतना अच्छा लिखती हैं.....कि....कि....कि....मैं एक सांस में...बैक-बैक-बैक जाकर एक के बाद एक ग़ज़ल पढता गया-पढता गया....और...और...और....कभी बूंदों में...कभी मेहंदी में....कभी ना जाने क्या कुछ में बहता गया.....सुधार लीजिये आप अपने आप को....वरना दीवाना हो जाउंगा....मैं आपका...अरे नहीं...नहीं भई....आपकी गज़लों का (अब बुरा मत मान जाईयेगा !!)हमने तो बिना लाग-लपेट के अपनी बात उर्फ़ अपनी टिप्पणी चेप दी है.....

    उत्तर देंहटाएं
  71. Khoobsoorat faces ke saath khoobsoorat lafzon ki GHAZALEN bhi wakai maza aaya ek bar fir/badhiya likhti hai aap.sader,
    dr.bhoopendra singh
    rewa
    mp

    उत्तर देंहटाएं
  72. Its always a treat to read what u write..
    beautiful choice of words...
    Loved it !!!

    उत्तर देंहटाएं
  73. वाह! बहुत खूब लिखा है आपने! उम्दा ग़ज़ल!

    उत्तर देंहटाएं
  74. बहुत सुन्दर लाजवाब ग़ज़ल...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  75. नीरज गोस्वामी जी,
    आपके इस अनुग्रह के लिए आपको बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  76. राजीव थेपड़ा ( भूतनाथ ) जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  77. डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह जी,
    इस अनुग्रहपूर्ण टिप्पणी के लिए बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  78. बबली जी,
    आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  79. Maheshwari kaneri ji,
    I am very glad to see your comment on my poem. Hearty thanks.

    उत्तर देंहटाएं
  80. प्रेम-नगर में पाँव धरे तो
    खुशियों की दुकान मिल गई.
    हाथ उठा कर अब क्या मांगें
    सब राहें आसान मिल गई.

    बहुत सुंदर गज़ल.

    उत्तर देंहटाएं





  81. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  82. बेहतरीन रचना.. सुन्दर अभिव्यक्ति....
    आपको सपरिवार नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  83. अरुण कुमार निगम जी,
    मेरी गज़ल पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  84. मृदुला प्रधान जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं।
    हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  85. राजेन्द्र स्वर्णकार जी,
    नवरात्रि पर्व पर आपको भी सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  86. अमरेन्द्र अमर जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    नवरात्रि पर्व पर आपको भी सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  87. नेह की वर्षा हो तो तन मन आत्मा का भीगना तो निश्चित ही है और प्रेम वर्षा होते ही सब कुछ नूतन सृजित हो जाता है, बहुत ही श्रेष्ठ रचना.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  88. समयाभाव के कारण अधिक गजल नहीं पढ़ सका,
    लेकिन जितनीं भी पढ़ीं, सबने प्रभावित किया.
    मानस पटल पर प्रभाव छोड़ने वाली रचनाएँ हैं.
    पूरा ब्लॉग पढ़ने के बाद शेष फिर .....
    धन्यवाद.
    आनन्द विश्वास.
    अहमदाबाद.

    उत्तर देंहटाएं
  89. ताऊ रामपुरिया जी,
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है.
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  90. आनन्द विश्वास जी,
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए हार्दिक आभार...
    मेरे इस ब्लाग एवं मेरी गजलों पर अपने विचार प्रकट करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  91. bahut he umda ..har ek rachna bahut he khoobsurat>>Dr. Varsha Singh ji .
    May I please request you to add me FB if u would not mind,,,Regards ramkrishn
    myfriends1960@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं