शुक्रवार, नवंबर 26, 2010

रात भर नींद को ढूंढती रह गई

33 टिप्‍पणियां:

  1. एक बादल वर्षा का न हुवा,
    ज़िन्द्गी आग से झूझती रही।

    बहुत ही नाज़ुक शे'र , ख़ूबसुरत ग़ज़ल्। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. संजय दानी जी, हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. नदी का धार में डूबना और अखबार की खबर का बुझना ....बहुत खूब लिखा है ...सुन्दर गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीया वर्षा सिंह जी
    प्रणाम आपको और आपकी शानदार जानदार लेखनी को !
    आप सच में बहुत अच्छा लिखती हैं ।
    पिछली पोस्ट्स की भी रचनाएं पढ़ीं मैंने , आनन्द आया ।

    यह ग़ज़ल भी काबिले-ता'रीफ़ है ।

    इत्तिफ़ाक़न हुआ या कि सज़िश हुई
    ख़ुद नदी धार में डूबती रह गई


    तमाम अश्'आर ग़ज़ल के प्रति आपकी समझ और सलाहियत - काबिलियत की ताईद है ।

    बहुत बहुत शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut dinon k baad idhar aanaa hua. aur fir dilko chhoo lene vali ghazal parh kar dard sub jata rahaa.

    उत्तर देंहटाएं
  6. संगीता स्वरुप जी, मेरे ब्लॉग पर आने के लिए हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. राजेन्द्र स्वर्णकार जी, आपको आनन्द आया । मेरी ग़ज़ल सफल हुई,हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. गिरीश पंकज जी,बहुत बाद दिनों सही, मेरे ब्लॉग पर फिर आने के लिए हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  9. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी इस रचना का लिंक मंगलवार 30 -11-2010
    को दिया गया है .
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    उत्तर देंहटाएं
  10. simple awesome Varsha ji...
    आपने न जाने कितनी रातों का फ़साना कह दिया...
    नींद तो आयी नहीं पर एक तराना कह दिया...

    उत्तर देंहटाएं
  11. पूजा जी, हार्दिक धन्यवाद! मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  12. कमाल भाव कागज़ पर उतारे वर्षाजी ...... बहुत सुंदर
    हर पंक्ति प्रभावी बन पड़ी है.....

    उत्तर देंहटाएं
  13. amazing..... apni kuch rachnayen rasprabha@gmail.com per bhejiye parichay aur tasweer ke saath

    उत्तर देंहटाएं
  14. नींद को ढूँढना और हवा से पता पूछना...वाह क्या गजब है ...मेरे ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया
    चलते -चलते पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  15. बेहद धारदार रचना………………।दिल मे उतर गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  16. इत्तिफाक हुआ कि साजिश हुई ...
    खुद नदी धार में डूबती रह गयी !
    बेहद संजीदा अहसास !

    उत्तर देंहटाएं
  17. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी, हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  18. रश्मि प्रभा जी, हार्दिक धन्यवाद! आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  19. केवल राम जी, हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  20. वन्दना जी, हार्दिक धन्यवाद! मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  21. अनुपमा पाठक जी, हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाणी गीत जी, आपका हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  23. 'ittifakan hua yaki sajish hui
    khud nadi dhar me doobti rah gayi'
    umda sher ..
    sunder gazal..

    उत्तर देंहटाएं
  24. सुरेन्द्र सिंह " झंझट " जी, हार्दिक धन्यवाद! मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  25. खूबसूरत अहसास ,सुन्दर गज़ल!

    उत्तर देंहटाएं
  26. सुनील जी. मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आपको धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  27. काजल कुमार जी. मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आपको धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  28. ek lmhaa khushi kaa naa thhahraa yahaan ,
    dehri aahaten choomti rah gai .
    behtreen gazlen likhtin hain aap "varshaaji "-
    ek baadal naa "varshaa" kaa apnaa huaa -
    baadal to hotaa hi aavaaraa hai -kahtaa bhi hai -"itnaa naa mujhse tu pyaar badhaa ki main ek baadal aavaaraa .....,
    kaise kisi kaa sahaaraa banu ki main khud be -ghar be -chaaraa ..."
    veerubhai .

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत सुंदर शेर..मजा आ गया पढ़ कर..बेहतरीन और खुबसूरत।

    उत्तर देंहटाएं
  30. veerubhai ji,

    Thanks for your comments.Hope you will be give me your valuable response on my future posts.

    उत्तर देंहटाएं
  31. Er. सत्यम शिवम जी,
    मेरे इस ब्लॉग पर आने के लिए आपको धन्यवाद.
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं।
    आपके विचारों का मेरे ब्लॉग्स पर सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं