मंगलवार, जुलाई 12, 2011

मेंहदी रची हथेली में ......

112 टिप्‍पणियां:

  1. एक बार फिर वर्षा जी आपकी भावनात्मक प्रस्तुति अंतस को स्पर्श करती गयी पंक्तियाँ पढ़ते-पढ़ते , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ..वर्षा जी ..खूब लिखी है वर्षा सावन दोनों हैं ... बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत लाजवाब ... इस छोटी बहर के शेर गज़ब ढा रहे हैं आज ... वर्षा की बूँदें कैसे प्रेम का संगीत बिखेर रही हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. वर्षा सावन दोनों हैं भावनात्मक प्रस्तुति , बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  5. कुश्वंश जी,
    आपने मेरी गजल को सराहा...इसके लिए अत्यन्त आभारी हूं। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  6. संगीता स्वरुप जी,
    आपको मेरी यह गजल अच्छी लगी, यह मेरे लिए अत्यन्त प्रसन्नता का विषय है.....हार्दिक धन्यवाद एवं आभार .... कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेहतरीन, आनन्द आ गया,
    शब्दों की अठखेली में।

    उत्तर देंहटाएं
  8. दिगम्बर नासवा जी,
    आप जैसे बेहतरीन शायर ने मेरी गजल को सराहा, यह मेरे लिए अत्यन्त सुखद है.आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  9. Jyoti Mishra ji,
    Thanks dear! your always welcome in my blog.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुनील कुमार जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  11. प्रवीण पाण्डेय जी,
    आपकी काव्यात्मक टिप्पणी ने दिल खुश कर दिया....इस प्रोत्साहन के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर शब्द पिरोये हैं आपने.... मन को छूती सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  13. विवेक जैन जी,
    मेरी गजल को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  14. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया...
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  15. मौसम को अब होश कहाँ उलझा प्रेम पहेली में ,
    चाल हवा की बदली है ,चर्चा सखी सहेली में .
    बूंदों की अठ- खेली में ,मेहँदी रची हथेली में .
    वर्षा की फिर कलम चली हलचल हुई बरेली में ./हलचल नै नवेली में .सुन्दर कोमल भावनाओं का आशियाना है यह गीत .बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  16. वीरू भाई जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  17. छोटी बहर की अच्छी मौसमी गज़ल....आनन्द आया.

    उत्तर देंहटाएं
  18. सुहाने मौसम की ,सुहानी ग़ज़ल!उम्दा!
    शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  19. चाल हवा की बदली है,
    चर्चा सखी-सहेली में।

    बेहतरीन अशआर, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  20. वीना जी,
    मेरी गजल को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  21. समीर लाल जी,
    आपने मेरी गजल को सराहा...इसके लिए अत्यन्त आभारी हूं। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  22. अशोक'अकेला' जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया...
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  23. डॉ. संजय दानी जी,
    मेरी गजल को पसन्द करने और अपने विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण ग़ज़ल! उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  25. उर्मि चक्रवर्ती जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं...
    इसी प्रकार स्नेह बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  26. मृदुला हर्षवर्द्धन जी,
    मेरी ग़ज़ल पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  27. सभी शेर लाजवाब.
    मक्ता हमेशा की तरह ग़ज़ब का .तख़ल्लुस का बेहतरीन इस्तेमाल.

    उत्तर देंहटाएं
  28. कुंवर कुसमेश जी,
    आप जैसे अच्छे शायर द्वारा मेरी गजल की सराहना, मेरे लिए अत्यन्त सुखद है. हार्दिक आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  29. संजय कुमार चौरसिया जी,
    मेरी गजल को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  30. रोशी जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  31. क्या बात है वर्षा जी
    छोटी बहर की हिंदी गज़ल
    गहरे अर्थं वाली

    उत्तर देंहटाएं
  32. गिरीश "मुकुल" जी,
    मेरी गजल को पसन्द करने और अपने विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  33. हमेशा की तरह रसभरी ग़ज़ल.लगा, बारिश हो रही है.

    उत्तर देंहटाएं
  34. kya bad hai varsh savan dono hain .
    kya khoob likha hai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  35. बहुत सुंदर आल्हादित करती हुई अनुभूति ....

    उत्तर देंहटाएं
  36. वाह ... बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द ।

    उत्तर देंहटाएं
  37. सुहावने मौसम सी सुहावनी प्रस्तुति...सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  38. नन्हीं सी गजल है लेकिन इतनी खूबसूरत कि वाह-वाह-वाह कहते थकता नहीं दिल...

    उत्तर देंहटाएं
  39. हमारी साँसों में आज तक वो हिना की खुशबू महक रही है......

    उत्तर देंहटाएं
  40. चाल हवा की बदली है
    चर्चा सखी सहेली में |
    ********************
    यूँ मिठास है गजलों में
    जैसे गुड की भेली में |
    .................वाह .........क्या कहना !
    साथ में गज़ब का चित्र संयोजन

    उत्तर देंहटाएं
  41. चर्चा मंच का आभार जो इस नायब ब्लॉग तक पहुचंने और नियमित पाठिका बनने का सुअवसर मिला....

    आपकी रचना पर तो क्या कहूँ....

    मन आनंदपूरित हो गया...क्या लिखती हैं आप....बस, वाह वाह वाह....

    उत्तर देंहटाएं
  42. गिरीश पंकज जी,
    मेरी गजल को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  43. रचना जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  44. अनुपमा त्रिपाठी जी,
    मेरी गजल को पसन्द कर अपने विचारों से अवगत कराने के लिए आपको हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  45. सदा जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं...
    इसी प्रकार स्नेह बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  46. माहेश्वरी जी,
    आपने मेरी गजल को सराहा...इसके लिए अत्यन्त आभारी हूं। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  47. knkayastha ji,
    Thanks for your comments.
    Hope you will be give me your valuable response on my future posts.

    उत्तर देंहटाएं
  48. दिव्या जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं....आपको हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  49. सुरेन्द्र सिंह " झंझट " जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  50. रंजना जी,
    आपको मेरी यह गजल अच्छी लगी, यह मेरे लिए अत्यन्त प्रसन्नता का विषय है.....हार्दिक धन्यवाद एवं आभार .... कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  51. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
  52. दिलबाग विर्क जी,
    मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए आपको हार्दिक धन्यवाद एवं आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  53. shabda rachana ki sadagi rachnakar ki apni sadagi ki abhjvyakti maloom padati hai!!! badhayiaaa

    उत्तर देंहटाएं
  54. डॉ0 विजय कुमार शुक्ल ‘विजय’ जी,
    आपको मेरी यह गजल अच्छी लगी, यह मेरे लिए अत्यन्त प्रसन्नता का विषय है.....हार्दिक धन्यवाद एवं आभार .... कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  55. आपने बड़े ख़ूबसूरत ख़यालों से सजा कर एक निहायत उम्दा ग़ज़ल लिखी है।

    उत्तर देंहटाएं
  56. आपको गुरु पूर्णिमा के शुभ अवसर पर सुगना फाऊंडेशन मेघलासिया जोधपुर और हैम्स ओसिया इन्स्टिट्यूट जोधपुर की ओर से हार्दिक शुभकामनाएं.

    आपको गुरु पूर्णिमा की ढेर सारी शुभकामनायें..

    उत्तर देंहटाएं
  57. वर्षा -सावन दोनों हैं ......बहुत खूब... सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  58. संजय भास्कर जी,
    आपने मेरी गजल को सराहा...इसके लिए अत्यन्त आभारी हूं। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  59. सवाई सिंह राजपुरोहित जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं...
    इसी प्रकार स्नेह बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  60. सवाई सिंह राजपुरोहित जी,
    आपको भी गुरु पूर्णिमा के शुभ अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  61. रेखा जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं....आपको हार्दिक धन्यवाद.
    इसी प्रकार स्नेह बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  62. डॉ. वर्षा जी,

    बहुत सुन्दर अश’आरों से सजी गज़ल बिल्कुल हाथों में रची हुई मेंहदी सी लगी।

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  63. बहुत ही मनभावन कोमल भावों को भाव स्पर्शी सुन्दर शब्दों में पिरो कर रचित अंतर्मन को स्पर्श करती काब्यांजलि ..कोटि कोटि अभिनन्दन एवं शुभ कामनाएं !!!

    उत्तर देंहटाएं
  64. चाल हवा की बदली है
    चर्चा सखी-सहेली में.

    वर्षा जी क्या खूब लिखती हैं.भावों की तितलियों को कैद करने के लिये कोई तिलस्मी जाल है क्या आपके पास ? मन प्रसन्न हो जाता है.

    उत्तर देंहटाएं
  65. आदरणीया डॉ.वर्षा सिंह जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    इतनी ख़ूबसूरत ग़ज़ल !
    बहुत ख़ूब ! क्या कहने !
    यूं मिठास है ग़ज़लों में
    जैसे गुड़ की भेली में


    जवाब नहीं आपका भी … … …

    शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  66. वर्षा सावन दोनों हैं
    चाहत नई नवेली में

    वाह वर्षा जी, बहुत ही सुन्दर ग़ज़ल है!

    उत्तर देंहटाएं
  67. मुकेश कुमार तिवारी जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं....आपको हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  68. श्रीप्रकाश डिमरी जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  69. सपना निगम जी,
    आपने मेरी गजल को सराहा...इसके लिए अत्यन्त आभारी हूं। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  70. राजेन्द्र स्वर्णकार जी,
    आप जैसे अच्छे कवि द्वारा मेरी गजल की सराहना, मेरे लिए अत्यन्त सुखद है. हार्दिक आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  71. राजेन्द्र स्वर्णकार जी,
    संदेश देने के लिए आपको हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  72. 'साहिल' जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं....आपको हार्दिक धन्यवाद.
    इसी प्रकार स्नेह बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  73. "यूँ मिठास है ग़ज़लों में
    जैसे गुड की भेली में"
    बहुत सुन्दर गज़लें हैं... बिलकुल गुड की भेली की मानिंद...

    "पहली बार आया, यह ब्लॉग बहुत भाया
    कदम कदम मिली यहाँ, शीतल सी छाया"
    सादर आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  74. छोटी बह्र की गज़ल कहना बड़ा म ुष्किल होता है। आपने बिल्कुल सीधे सरल शब्दों में मन को छू जाने वाली बात कही है। अच्छी गज़ल है।

    उत्तर देंहटाएं
  75. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  76. कोमल अहसासों को बहुत खूबसूरती से शब्दों में पिरोया है..लाज़वाब

    उत्तर देंहटाएं
  77. एस.एम.हबीब जी,
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है! आपकी काव्यात्मक टिप्पणी के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार...कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  78. हरिशंकर जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ....

    उत्तर देंहटाएं
  79. बबली जी,
    सूचित करने के लिए हार्दिक धन्यवाद .....

    उत्तर देंहटाएं
  80. कैलाश सी.शर्मा जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं...
    इसी प्रकार स्नेह बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  81. bahut dino se bibidh blogs pe aapke comment padh raha tha...aaj pahli baar aapke blog pe aana hua..behad accha laga..itni choti behar mein itni shandar ghazal..baise ek aur khushi mujhe tab hui ..jab ye jaana ki aap bhi sagar se hain..bajme daag..hindu urdu majlis..itayadi sansthaon mein aap se mulakat hui thi ye to dhyan nahi..kintu sharad ji aur aapko main ek jamane se jan raha tha ..lekin pehchaan nahi paa raha tha..aaj jaankari ko pehchaan bhi mil gayi..sadar pranam..kabhi samay ho to mere blog pe aake mera margdarshan kijiyega..shubhkamnaon ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  82. Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" ji,
    Thanks for your comments.
    Hope you will be give me your valuable response on my future posts.

    उत्तर देंहटाएं
  83. डॉ वर्षा सिंह जी हार्दिक अभिवादन सुन्दर रचना बधाई
    सावन का मजा आ गया -वर्षा सावन दोनों ही हैं -चाहत नयी नवेली में ..क्या कहने -आनंद दायी
    धन्यवाद -शुभ कामनाएं
    शुक्ल भ्रमर ५
    भ्रमर का दर्द और दर्पण

    उत्तर देंहटाएं
  84. सुरेन्द्र शुक्ला जी,
    आपने मेरी गजल को सराहा...इसके लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  85. Varsha ji namaskaar,
    aaj aapki ghazal padi.....
    bahut achha laga..padkar...dil chhu gayi....

    mere blog par aapka swaagat hai.....

    sadar

    उत्तर देंहटाएं
  86. ज्योति सिंह जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  87. Divya ji,
    Hearty Thanks for your comment...
    You are always welcome in my blog.

    उत्तर देंहटाएं
  88. कुमार जी,
    बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  89. बेहतरीन, लाजवाब।
    क्या सुंदर शब्दों का प्रयोग किया है आपने .. गुड़ की भेली में, वर्षा सावन दोनों हैं .. वाह-वाह!!

    उत्तर देंहटाएं
  90. मनोज कुमार जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं....आपको हार्दिक धन्यवाद.
    इसी प्रकार स्नेह बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  91. naayi naveli dulhan ke man ke saare armaano kuchh hi panktiyon me simat gaye se lagte hain

    उत्तर देंहटाएं
  92. डिम्पल माहेश्वरी जी,
    आपने मेरी गजल को सराहा...इसके लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  93. mausam ko ab hosh kahan,
    uljha prem paheli me ....saawn ke rang aur bhaavo ki rimjhim bauchhar ......bhigone me kamyaab rahi hai aap.....

    उत्तर देंहटाएं
  94. जोगेश्वर गर्ग जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  95. अंजू जी,
    आपने मेरी गजल को सराहा...इसके लिए अत्यन्त आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  96. नै नवेली के मेहँदी रचे हाथ बारहा देखे -चाहत भी देखी अब पाद सौन्दर्य भी रचो ,पैरों की महावर ,बिछिया और पाजेब .......आपकी रचनाएं पर्तिक्षित हैं .शुक्रिया ब्लॉग पर आहट के लिए .कृपया इसे भी बांचे -
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  97. बहित खूबसूरत गज़ल बिल्कुल हमारी दोस्त कि खूबसूरत मुस्कान जैसी :)

    उत्तर देंहटाएं
  98. वीरू भाई जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  99. रश्मि प्रभा जी,
    आप जैसी अच्छी.... सुकवयित्री द्वारा मेरी गजल की सराहना, मेरे लिए अत्यन्त सुखद है. हार्दिक आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  100. मीनाक्षी पंत जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं....आपको हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं