रविवार, जुलाई 31, 2011

कोई अपना-सा मिल गया होगा ...


104 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ... बहुत खूबसूरत ..यूँ ही जलता रहे चाहत का दीप और रोशन रहे ज़िंदगी :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह बहुत ही खूबसूरत ख्याल्।

    उत्तर देंहटाएं
  3. हर बार कि तरह खूबसूरत और सुन्दर ख्यालों से सजी प्यारी गज़ल |

    उत्तर देंहटाएं
  4. जब अपनापन बसता है,
    कोई हृदय में हँसता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी प्रस्तुति |बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही बेहतरीन ग़ज़ल...

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर खयालात हैं...बहुत खुबसूरत ग़ज़ल कही है आपने...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  8. खूबसूरत, सुन्दर.... ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  9. very nice...
    आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 01-08-2011 को चर्चामंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर सोमवासरीय चर्चा में भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  10. संगीता स्वरुप जी,
    आपने मेरी इस गज़ल को पसन्द किया...हृदय से आभारी हूं.
    आपको अनेक धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  11. दीप्ति शर्मा जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !
    मेरे ब्लॉग पर आपके विचारों का हमेशा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. वन्दना जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  13. सागर जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  14. मीनाक्षी पंत जी,
    मेरी गज़ल को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  15. प्रवीण पाण्डेय जी,
    काव्यात्मक टिप्पणी के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  16. आशा जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  17. कुमार जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया.... आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  18. एस एम हबीब जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  19. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  20. संजय कुमार चौरसिया जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  21. गिरीश पंकज जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  22. चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ जी,
    आपकी इस सूचना ने मेरा उत्साह बढ़ाया है. इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  23. रोशी जी,
    आपका स्नेह मेरी गज़ल को मिला.....यह मेरा सौभाग्य है.
    आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  24. साजन आवारा जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं।
    हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  25. ये रंग ही ऐसा है कि इसके पड़ते ही इन्द्रधनुषी रंग बिखर जाते हैं।
    बेहतरीन ग़ज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  26. मनोज कुमार जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  27. शब्द वर्षा रहे ग़ज़ल में भावों को
    पढ़ा सुमन तो खिल गया होगा
    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    http://www.manoramsuman.blogspot.com
    http://meraayeena.blogspot.com/
    http://maithilbhooshan.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति , सुन्दर भावाभिव्यक्ति , आभार

    कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारें

    उत्तर देंहटाएं
  29. इन्द्रधनुषी ओढनी ...
    बहुत अच्छे भाव

    उत्तर देंहटाएं
  30. mind blowing gajal ji .love song whispering one to
    one ,saying thanks ../

    उत्तर देंहटाएं
  31. हर तरफ़ रौशनी की वर्षा है
    दीप चाहत का जल गया होगा।

    बेहतरीन शे"र , ख़ूबसूरत ग़ज़ल ।

    उत्तर देंहटाएं
  32. हर तरफ़ रौशनी की वर्षा है
    दीप चाहत का जल गया होगा.

    तख़ल्लुस का अर्थपूर्ण इस्तेमाल आपकी विशेषता है.
    ग़ज़ल अच्छी है.

    उत्तर देंहटाएं
  33. श्यामल सुमन जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी ग़ज़ल पसन्द आई। आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  34. एस एन शुक्ला जी,
    मेरी गज़ल पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  35. वंदना जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद !
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  36. उदय वीर सिंह जी,
    आपने मेरी ग़ज़ल को पसन्द किया..सुखद लगा ...
    आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  37. अना जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  38. डॉ संजय दानी जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  39. कुंवर कुसुमेश जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि मेरी गज़ल आपको पसन्द आई.... बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  40. कनु जी,
    मेरी गज़ल आपको पसन्द आई यह जान कर सुखद अनुभव हुआ.
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  41. चाँद माथे की बन गया बिंदिया ,
    मन ख़ुशी से मचल गया होगा .
    कहाँ से लातिन हैं आप अलफ़ाज़ .हिमोग्लोबीन से ...

    उत्तर देंहटाएं
  42. बहुत ही खूबसूरत ख्याल्।

    उत्तर देंहटाएं
  43. वाह ...बहुत खूब कहा है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  44. वाह बहुत ही खूबसूरत ख्याल्।

    उत्तर देंहटाएं
  45. वाह एक और उम्दा ग़ज़ल.

    उत्तर देंहटाएं
  46. सुन्दर रचना .-राह में थक गए कदम होंगे ,
    कोई अपना सा मिल गया होगा .
    http://sb.samwaad.com/
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/http://veerubhai1947.blogspot.com/कृपया यहाँ भी कृतार्थ करें .

    उत्तर देंहटाएं
  47. वीरू भाई जी,
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  48. मृदुला हर्षवर्धन जी,
    आपने मेरी ग़ज़ल को पसन्द किया..सुखद लगा ...
    आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  49. सरोज राठौर जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि मेरी गज़ल आपको पसन्द आई.... बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  50. सदा जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया...
    हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  51. विद्या जी,
    मेरी गज़ल को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार...
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  52. अनामिका जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं।
    हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  53. काजल कुमार जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी गज़ल पसन्द आई।
    हार्दिक धन्यवाद! सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  54. सी.एस.देवेन्द्र के शर्मा जी,
    हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  55. वीरू भाई जी,
    आमन्त्रण के लिए आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  56. बहुत सुन्दर......गज़ब के अलफ़ाज़..

    इक इक हर्फ़ जैसे खुद में इक ग़ज़ल कहता है
    ...तखल्लुस के प्रयोग की जितनी तारीफ करूँ कम है
    कभी आरंभन पर भी आकर हमे कृतार्थ करें
    http://aarambhan.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  57. bahut achchi ghazal.mujhe ghazal humesha achchi lagti hai.

    उत्तर देंहटाएं
  58. http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/http://sb.samwaad.com/
    खूब कहतीं हैं आप ग़ज़ल ,बारहा पढने चले आतें हैं ,
    प्रेम के सूक्ष्म रूप को देतीं हैं अलफ़ाज़ ये ग़ज़लें .कहने चले आतें हैं .शुक्रिया आपका ब्लॉग पर टिपियाने का .

    उत्तर देंहटाएं
  59. एक गहरी छाप छोड़्ती है यह कविता मन पर!!

    उत्तर देंहटाएं
  60. बहुत ही खूबसूरत शब्‍दों का संगम ...बधाई इस बेहतरीन अभिव्‍यक्ति के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  61. shandar ghazal ke liye hadik badhayee..puri ghazal mujhe behad bhai..lekin pahle do sher dil ko choo gaye..pranam ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  62. फिर कोई नया गीत गाओ ,ग़ज़ल बन छा जाओ ...."...पूर्ती आप कीजिए
    कृपया यहाँ भी पधारें - http://www.blogger.com/home
    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    http://sb.samwaad.com/
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  63. कोमल अहसासों को पिरोती हुई खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  64. बहुत ही बेहतरीन ग़ज़ल...छूती है कहीं भीतर तक...बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  65. एस. विक्रम जी,
    आपने मेरी इस गज़ल को पसन्द किया...हृदय से आभारी हूं.
    आपको अनेक धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  66. राजेश कुमारी जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी यह गज़ल आपको पसन्द आई. आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  67. वीरूभाई जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  68. संजय भास्कर जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  69. संजय भास्कर जी,
    आपके पुनः आगमन.... और इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  70. आशुतोष मिश्र आशू जी,
    आपका आना सुखद लगा ....
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया.
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार

    उत्तर देंहटाएं
  71. Rajeev Panchhi ji,
    Very-very thanks for your valuable comment.

    उत्तर देंहटाएं
  72. Veerubhai ji,
    It's a pleasure to have you on my blog. regards.

    उत्तर देंहटाएं
  73. डोरोथी जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  74. समीरलाल जी, Udan Tashtari
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...
    मेरे ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है,कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  75. खूबसूरत, मनभावन, अनुपम प्रस्तुति.
    कोमल मधुर भावों का अहसास कराती हुई.
    आभार.
    मेरे ब्लॉग पर आपके दर्शनों की अपेक्षा है.

    उत्तर देंहटाएं
  76. राकेश कुमार जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी यह गज़ल आपको पसन्द आई. आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  77. http://sb.samwaad.com/
    http://sb.samwaad.com/ शुक्रिया मैम.

    उत्तर देंहटाएं
  78. वीरूभाई जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  79. रंजो गम अब नहीं हमको .शुक्रिया क्यों अदा करें उनका ." बहर सूरत आपकी शानदार प्रस्तुतियों का इंतज़ार करने का हक़ हासिल है हमको . शुक्रवार, ५ अगस्त २०११
    Erectile dysfunction? Try losing weight Health
    ...क्‍या भारतीयों तक पहुच सकेगी यह नई चेतना ?
    Posted by veerubhai on Monday, August 8
    Labels: -वीरेंद्र शर्मा(वीरुभाई), Bio Cremation, जैव शवदाह, पर्यावरण चेतना, बायो-क्रेमेशन /http://sb.samwaad.com/

    उत्तर देंहटाएं
  80. "कोई अपना सा मिल गया हमको ,
    रंजो गम अब नहीं हमको .शुक्रिया क्यों अदा करें उनका ." बहर सूरत आपकी शानदार प्रस्तुतियों का इंतज़ार करने का हक़ हासिल है हमको . शुक्रवार, ५ अगस्त २०११
    Erectile dysfunction? Try losing weight Health
    ...क्‍या भारतीयों तक पहुच सकेगी यह नई चेतना ?
    Posted by veerubhai on Monday, August 8
    Labels: -वीरेंद्र शर्मा(वीरुभाई), Bio Cremation, जैव शवदाह, पर्यावरण चेतना, बायो-क्रेमेशन /http://sb.samwaad.com/

    उत्तर देंहटाएं
  81. वीरूभाई जी,
    आग्रह के लिए आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  82. वाह...जवाब नहीं....
    बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं
  83. Bahut Achha likha hai apne Dr, Varsha Singh ji Apne aur bahut khubsurat andaaz se

    Sahi comments diya hai Smt Sangeeta Swaroop Ji ne..
    बहुत खूबसूरत ..यूँ ही जलता रहे चाहत का दीप और रोशन रहे ज़िंदगी :)




    Aankhen muskuraati hai in nigaaho ko dekha pata chal.Muskuaan Labon Se Kitni Pyaari hoti Hai jo Khud ba khud har dekhne waale k labon me muskaan ki lehar Sajaa deti hai .Waaah

    उत्तर देंहटाएं
  84. वीरूभाई जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी ग़ज़लें पसन्द आती हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  85. वीना जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  86. रामकृष जी,
    आपने मेरी इस गज़ल को पसन्द किया...हृदय से आभारी हूं.
    आपको अनेक धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  87. रचना जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  88. कैलाश जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी यह गज़ल आपको पसन्द आई.
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  89. कोई अपना सा मिल गया होगा ...

    वाह बहुत ही खूबसूरत गज़ल ... सुभान अल्ला इस अदायगी पर ... बारिश में भीगती बूंदों की तरह ...

    उत्तर देंहटाएं
  90. बहुत अच्छा गागर में सागर भरा है।

    उत्तर देंहटाएं