सोमवार, जनवरी 31, 2011

ज़िन्दगी का सही पता औरत



25 टिप्‍पणियां:

  1. कहानी गीत और गज़ल औरत

    दूसरे के दुख से मचल औरत
    ओढ के समाज में गमों का लिबास
    देती है ज़िन्दगी यूँ सज़ल औरत

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut hi sundar baat ki aapne
    varsha ji, bahut bahut aabhar
    in sundar panktiyon ke liye

    उत्तर देंहटाएं
  3. बिल्कुल सही और भावना से परिपूर्ण लिखा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. नारी जीवन के त्याग और व्यथा को बहुत सुंदरता से उकेरा है...हरेक शेर दिल को छू जाता है..

    उत्तर देंहटाएं
  5. shild, shabd sanyojan, vyangya sab kamaal ka hai...

    Badhaai...

    उत्तर देंहटाएं
  6. ♛ अनुपम अग्रवाल जी
    ✤ संजय कुमार चौरसिया जी
    ♛ रश्मि प्रभा जी
    ✤ संगीता स्वरुप जी
    ♛ कैलाश शर्मा जी
    ✤ गिरीश पंकज जी
    ♛ सुशांत जैन जी
    आप सभी का हार्दिक धन्यवाद! सम्वाद क़ायम रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. jahan sneh mila wahi bati si jali
    manviya padap ki ye anmani kali .
    yahi hai aurat ki fitrat ,badhut badhiya likha hai aapne .badhai .

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रभावपूर्ण अभिव्यक्ति ..

    उत्तर देंहटाएं
  9. ज्योति सिंह जी, हार्दिक धन्यवाद! सम्वाद क़ायम रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  10. निवेदिता जी, बहुत -बहुत ..शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं
  11. नए आयामों की ग़ज़ल.

    सच यही है ज़रा इसे समझो
    ज़िंदगी का सही पता औरत.

    बहुत ही बढ़िया अभिव्यक्ति.
    आपकी कलम को सलाम.

    उत्तर देंहटाएं
  12. Sagebob ji,Thanks for your comments.Hope you will be give me your valuable response on my future posts.

    उत्तर देंहटाएं
  13. सच यही है जरा इसे समझो
    जिन्दगी का सही पता औरत
    उम्दा ग़ज़ल ...हर शेर खूबसूरत

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुरेन्द्र सिंह ‘ झंझट ’जी,
    आप को हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  15. ललित शर्मा जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आपका शुक्रिया...
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  16. bahut hi sunder
    aapne nari ke har rup ko dikha diya
    aabhar
    ...mai aapka anusharan kar rhi hu
    ..

    उत्तर देंहटाएं
  17. दीप्ति शर्मा जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आपका धन्यवाद एवं आभार.....
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  18. प्रदीप कांत जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. "ZINDGEE KAA SAHI PATAA AURAT "-bahut khoob !
    KUCHCHH NA BEZAA KAHAA AAPNE RANCH BHI
    BHOGI HUI EK SAZAA AURAT .
    KUCHCHH TO DEKHO ! ZARAA !KYAA MAZAA HI MAZAA AURAT ?
    GUSTAAKHI KE LIYE MUAAFI,
    veerubhai .

    उत्तर देंहटाएं
  20. MUSHAAYRAA HAI ,RASIYAA ,BALAA AURAT ,
    KHUDA KEE KHUDAAI ,RAHI AURAT !
    veerubhai .

    उत्तर देंहटाएं
  21. YE YOO BHI HO SAKTAA THAA-
    MUSHAAYRAA HAI ,BADHIYAA GAZAL ,AURAT !

    उत्तर देंहटाएं
  22. Garbh me roz hoti dafan aurat ,
    Yaatnaa kaa vo zindaa shivir aurat.
    zindgee kee poori kitaab ,
    Vafaa aurat .
    bhaavon ko nai parvaaz aur aalodan de jaatin hain aapki likhi kahi ,padhi panktiyaan .
    veerubhai .

    उत्तर देंहटाएं