सोमवार, फ़रवरी 07, 2011

वासंती दोपहरी, वासंती शाम


29 टिप्‍पणियां:

  1. Ek aur achi gajhal...

    Kya titaliyaa khud araam karna chahti hai ????

    Indian Sushant

    उत्तर देंहटाएं
  2. मनभावन बासंती अभिव्यक्ति, बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बसन्ती रंग में रंग गयी आज आप की ग़ज़ल भी.
    "इतराती कलियाँ,इतराते फूल,
    भौरों के सर पर आया इलज़ाम."
    बहुत ही बढ़िया.
    शुभ कामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. मनभावन बासंती अभिव्यक्ति, बहुत बहुत बधाई।
    शुभ कामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  5. बसंत पंचमी पर प्रकृति के मदमाते रूप का वर्णन करती सुंदर गजल
    sahityasurbhi.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. ✿ सुशांत जैन जी
    ✿ संजय दानी जी
    ✿ sagebob
    ✿ संजय कुमार चौरसिया जी
    ✿ दिलबाग विर्क जी

    आप सब के स्नेह के लिए हार्दिक आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीया वर्षा सिंह जी

    ख़ूबसूरत सरस बासंती रचना के लिए आभार और बधाई !
    बसंत पंचमी की हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    शस्वरं

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बढ़िया सामयिक वर्णन ! शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  9. वसंती रगों से सजी खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    आप को वसंत की ढेरों शुभकामनाएं!
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  10. माँ सरस्वती को नमन........बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनायें आपको भी......

    उत्तर देंहटाएं
  11. वासंती रंगो-महक में डूबी सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  12. ● राजेन्द्र स्वर्णकार जी
    ● सतीश सक्सेना जी
    ● ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ जी
    ● Dorothy जी
    ● चैतन्य शर्मा जी
    ● कुंवर कुसुमेश जी

    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए हार्दिक धन्यवाद.
    आभारी हूं विचारों से अवगत कराने के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बासंती मौसम को समर्पित यह ग़ज़ल बहुत अच्छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  14. अत्यंत सुंदर , सुसज्जित एवं आकर्षक ब्लाग ।रचनाओँ के भी क्या कहने । अछोर बधाइयाँ ।वसंत पंचमी की शुभकामनाएँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. ख़ूबसूरत बासंती रचना के लिए आभार.....

    उत्तर देंहटाएं
  16. वसन्त की आप को हार्दिक शुभकामनायें !
    कई दिनों से बाहर होने की वजह से ब्लॉग पर नहीं आ सका
    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    उत्तर देंहटाएं
  17. ∎ मनोज कुमार जी
    ∎ डॉ. नागेश पांडेय "संजय" जी

    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है........
    आभारी हूं विचारों से अवगत कराने के लिए।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  18. संजय भास्कर जी,
    देर से सही, आपका आना सुखद लगा ......
    हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  19. आशुतोष मिश्र जी ,मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आपको धन्यवाद. आपके विचारों से मेरा उत्साह बढ़ेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  20. सुमन जी,हार्दिक धन्यवाद! आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  21. कर लिया बगीचों ने नूतन श्रृंगार ,
    गली गली बन गए खुशबू के धाम !

    वाह ! डा. वर्षा जी,
    ग़ज़ल का हर शेर बासंती रंग में नहाया हुआ है !
    बसंत ऋतु की हार्दिक शुभकामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  22. ज्ञानचंद मर्मज्ञ जी,
    आभारी हूं विचारों से अवगत कराने के लिए।
    हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  23. वाह ! इस ग़ज़ल का तो जवाब नहीं । लाजवाब !

    उत्तर देंहटाएं
  24. डॉ॰ दिव्या श्रीवास्तव जी (ZEAL),
    हार्दिक धन्यवाद!
    मेरे ब्लॉग से जुड़ने के लिए हार्दिक धन्यवाद! आपका स्वागत है!
    आपके विचारों से मेरा उत्साह बढ़ेगा!
    सम्वाद बनाए रखें!

    उत्तर देंहटाएं
  25. "Titlee ko pal bhar naa miltaa aaraam "-
    Par -paragan me (Polination)me uskaa bhi to haath hai ,aaraam kaise mile ,
    prakriti nati kaa melaa ,
    yahaan kaun akelaa !
    veerubhai .

    उत्तर देंहटाएं