बुधवार, नवंबर 07, 2018

Happy Diwali दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

Dr.Varsha Singh

मावस की यह रात

नई रोशनी बिखर रही है आज नई कंदीलों से
फिर उमंग की थाल सजी है मधुर बताशों- खीलों से

किसे चांद की आज प्रतीक्षा, अमावस की यह रात भली
निकल रही है ज्योति नहाकर दीप-किरण की झीलों से

स्वागत में रत हैं फिर यादें चाहत के दरवाज़े पर सुखद कामना के संदेशे आते चलकर मीलों से

आंगन चौक पूर कर गोरी, द्वार सजाकर तोरण से
रंग बिरंगी उजली झालर बांध रही है कीलों से

कहना मुश्किल असली तारे नभ पर हैं या धरती पर
हुआ परेशान मौसम “वर्षा” तर्कों और दलीलों से
- डॉ. वर्षा सिंह



4 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन टीम की और मेरी ओर से आप सब को गोवर्धन पूजा और अन्नकूट की हार्दिक शुभकामनाएं|


    ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 08/11/2018 की बुलेटिन, " गोवर्धन पूजा और अन्नकूट की हार्दिक शुभकामनाएं “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शिवम मिश्रा जी , आपको भी सपरिवार शुभकामनाएं

      मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए हार्दिक आभार

      हटाएं
  2. बहुत सुंदर कलात्मक अंलकृत कविता।

    उत्तर देंहटाएं