सोमवार, जनवरी 11, 2021

इन दिनों | ग़ज़ल | डॉ. वर्षा सिंह | संग्रह - सच तो ये है

Dr. Varsha Singh


इन दिनों 

           -डॉ. वर्षा सिंह

       

एक दोस्त में दिखे कुछ बदलाव इन दिनों 

करता है दुश्मनों सा बरताव इन दिनों 


जीने को ज़िन्दगी है, मरने को मौत है 

दोनों के बीच ज़ारी उलझाव इन दिनों 


दुबकी  पड़ी हैं लहरें, सहमी-सी धार है 

लगता नदी में जैसे ठहराव इन दिनों 


पढ़ने को चार मिसरे, कहने को शेर हैं 

ग़ज़लों से हो रहा है बहलाव इन दिनों 


चैनो-अमन की "वर्षा" पल भर न हो सकी 

यूं तो घटाओं का है घहराव इन दिनों


------------


(मेरे ग़ज़ल संग्रह "सच तो ये है" से)

19 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन ग़ज़ल..उम्दा शेरों से सजी हुई..

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत शुक्रिया प्रिय जिज्ञासा सिंह 🌷🙏🌷

      हटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज मंगलवार 12 जनवरी 2021 शाम 5.00 बजे साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद प्रिय यशोदा अग्रवाल जी 🙏

      हटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (13-01-2021) को "उत्तरायणी-लोहड़ी, देती है सन्देश"  (चर्चा अंक-3945)   पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    हर्षोंल्लास के पर्व लोहड़ी की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार आदरणीय शास्त्री जी 🙏

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद आदरणीय जोशी जी 🙏

      हटाएं
  5. सुन्दर ग़ज़ल मुग्धता बिखेरती हुई शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक धन्यवाद आदरणीय शांतनु सान्याल जी 🙏

      हटाएं
  6. खूबसूरत ग़ज़ल आदरणीया

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह, बहुत खूबसूरत ग़ज़ल है डॉ. वर्षा!

    जवाब देंहटाएं